50 हजार बाहरी श्रद्धालु आएंगे प्रतिदिन, इस आधार पर बन रही नई अयोध्या
   Date22-Mar-2021

fc6_1  H x W: 0
पत्रकारों से चर्चा में कहा - श्रीराम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र न्यास के महासचिव व विहिप के अंतरराष्ट्रीय उपाध्यक्ष चंपत राय ने
उज्जैन ठ्ठ 21 मार्च (स्वदेश समाचार)
श्रीराम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र न्यास के महासचिव व विश्व हिन्दू परिषद के अंतरराष्ट्रीय उपाध्यक्ष चंपत राय ने रविवार को उज्जैन में पत्रकारों से चर्चा की। इस दौरान उन्होंने कहा कि श्रीराम मंदिर में दर्शन व अध्योध्या भ्रमण के लिए प्रतिदिन कम से कम 50 हजार लोग आया करेंगे। गत एक जनवरी को शासकीय आंकड़े के अनुसार अयोध्या करीब 48 हजार लोग पहुंचे। ऐसे में मंदिर निर्माण के साथ समस्त तैयारी इस आंकड़े को ध्यान में रखकर की जा रही है।
यह लोग कहां ठहरेंगे। रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन, भोजन, यातायात के साधान आदि समस्त सुविधाओं को इसी आधार पर विकसित किया जाएगा। उनका कहना है कि साल में तीन विशेष पर्व हैं। तब श्रद्धालुओं का आंकड़ा कई लाख तक पहुंच जाता है। ऐसे में इन दिनों के लिए भी तैयारी करनी होगी। उन्होंने कहा कि अपनी सांस्कृ तिक धरोहर को सहेजने के लिएमंदिर के अलावा अन्य किसी भी आवश्यक प्रकल्प का निर्माण करना आवश्यक होगा, तो वह किया जाएगा।
श्रीराम मंदिर हिन्दुओं की मूंछ की लड़ाई है-पत्रकारवार्ता के दौरान उन्होंने कहा कि श्रीराम मंदिर हिन्दुओं की मूंछ की लड़ाई है। एक बाहरी ने हमारे घर पर कब्जा किया और हमारे लोगों को बेदखल किया। इतिहास की बातों पर चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि सभी को पता है बाबर के समय कितने मंदिर टूटे। यह लड़ाई 500 साल से चली आ रही है। 1949 में उक्त मंदिर को 50 नौजवानों ने अपने हक में लिया। न्यायालय ने हिन्दुओं के पक्ष में फैसला दिया। तब से यह संघर्ष चला आ रहा है, जो अब खत्म हुआ। तीन साल में मंदिर बनकर पूरा हो जाएगा। मंदिर निर्माण का पूरा रास्ता न्यायालय से साफ हुआ। इसका राजनीति से कोई संबंध नहीं।