एसटीएफ ने जब्त किए 13.35 लाख के नकली नोट
   Date02-Mar-2021

rt5_1  H x W: 0
नकली नोट छापने वाले गिरोह का पर्दाफाश, 5 आरोपी हिरासत में
उज्जैन ठ्ठ 1 मार्च (स्वदेश समाचार)
एसटीएफ को एक बड़ी सफलता हाथ लगी है। टीम ने जाली नोट छापने और उसे बाजार में खपाने वाले एक अंतर्राज्यीय गिरोह का पर्दाफाश किया है। गिरोह के सरगना समेत पांच सदस्य हत्थे चढ़े हैं। ये आरोपी 2000 और 500 के जाली नोट छापते थे। गिरोह के पास से 13.35 लाख से अधिक के नकली नोट बरामद हुए हैं। एक फोटो कॉपी मशीन, केमिकल आदि भी जब्त हुए हैं।
आरोपियों को कोर्ट में पेश कर रिमांड पर लिया गया है ताकि पूछताछ में उनके नेटवर्क के बारे में पता किया जा सके। गिरोह का सरगना और उसका एक साथी राजस्थान के प्रतापगढ़ जिले में पहले भी इसी अपराध में गिरफ्तार हो चुके हैं।
एसपी अंजना तिवारी ने बताया कि रविवार रात को मुखबिर से खबर मिली थी कि आगर रोड स्थित हरिओम वेयर हाउस के पास एक कार आरजे 35 सीए 0591 में सवार चार लोग जाली नोट लेकर किसी ग्राहक का इंतजार कर रहे हैं। खबर मिलते ही निरीक्षक दीपिका शिंदे व अन्य के साथ दबिश दी गई। चारों को मौके से हिरासत में ले लिया गया। कार की तलाशी लेने पर उसमें 2000 और 500 के नोट बंडलों में बंधे मिले। पूछताछ में पता चला कि नोट नकली हैं। हिरासत में लिए गए युवकों की
पहचान महमूद खां निवासी जिला आगर, सद्दाम व नईम उर्फ नय्यूम निवासीगण प्रतापगढ़ राजस्थान, गोवर्धन निवासी नईखेड़ी भैरवगढ़ उज्जैन के रूप में हुई। चारों की निशानदेही पर गिरोह के पांचवें सदस्य संतोष को आगर जिले के सुसनेर से पकड़ा गया। सद्दाम और नईम पहले भी नकली नोट के मामले में जेल जा चुके हैं।