पुरातत्व की खुदाई में हजारों वर्ष प्राचीन मंदिर केे अवशेष मिले
   Date09-Feb-2021

sx4_1  H x W: 0
रतलाम/शिवगढ़ ठ्ठ देवेन्द्रसिंह वाघेला
यहां से 35 कि.मी. दूर माही नदी के किनारे गढख़ंखई माताजी राजपुरा माताजी से लगेे क्षेत्र में पुरातत्व विभाग द्वारा की जा रही खुदाई में बारह सौ वर्ष पूर्व के मंदिर के अवशेष मिले हैं। यहां लगभग एक माह से खुदाई चल रही है, जिसमें कई मूर्तियां भी मिली हैं, जो खजुराहो में बने मंदिर केे पैटर्न की नजर आती है। जोरदार नक्काशी, वास्तुकला का बेहतरीन नमूना इन मूर्तियों में पाया गया है।
पुरातत्वविद् अनिल जोशी, डॉ. डी.बी. पाण्डे ने बताया कि यह मंदिर 10वीं शताब्दी में परमारकालीन मंदिर था एवं तांत्रिक क्रियाओं के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता था। खजुराहो मंदिर के तर्ज पर बना मंदिर अद्भुत प्रतीत होता है। उक्त मंदिर में भगवान शंकर का मंदिर भी है, जिसमें बेशकीमती मूर्तियां, बड़ी-बड़ी शिलाएं, स्तम्भ, अद्भुत नक्काशी देखने को मिलती है।
अधिकारियों ने बताया कि अगर इसका शासन-प्रशासन की ओर से कायाकल्प किया जाए तो बेहतर पर्यटक स्थल बन सकता है। मंदिर से माताजी का एक शार्टकट रास्ता भी है, जो इन अवशेष के निकट पड़ता है। माही नदी का किनारा, माताजी का मंदिर, सम्पूर्ण क्षेत्र पुरातत्व की दृष्टि सेे काफी महत्वपूर्ण है, जिसकी व्यापक खोजबीन और खुदाई की जाना चाहिए।