पथ विक्रेता सम्मान से करें अपने काम-धंधे
   Date19-Feb-2021

dc1_1  H x W: 0
भोपाल ठ्ठ 18 फरवरी (स्वदेश समाचार)
मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा है कि मेरा हरसंभव प्रयास है कि प्रदेश के बेटा-बेटी, भाई-बहन अपने स्वयं के काम-धंधे संचालित करें और सम्मान से जीवन जिएं। यह हो गया तो मानूंगा कि मेरा मुख्यमंत्री बनना सार्थक हुआ। मुख्यमंत्री चौहान ने आज मिंटो हॉल में 40 हजार ग्रामीण पथ विक्रेताओं को एक साथ दस-दस हजार रुपए के ऋण उपलब्ध कराने के लिए पट्टिका का अनावरण किया।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा शहरी पथ व्रिकेताओं के लिए योजना आरंभ की गई थी। इससे प्रेरणा लेकर कोरोनाकाल में प्रभावित हुए छोटे कारोबारियों की मदद के लिए प्रदेश में ग्रामीण क्षेत्र के पथ विक्रेताओं के लिए भी योजना आरंभ की गई है। छोटे स्तर पर संचालित काम-धंधों के लिए पूंजी के साथ-साथ आवश्यक प्रशिक्षण देने की व्यवस्था भी की जा रही है, जिससे पथ विक्रेता अपने कार्य को अधिक कुशलता से संचालित कर सकेंगे, उसमें लगातार विस्तार भी होगा। अब तक प्रदेश में 1 लाख 41 हजार से अधिक हितग्राहियों के ऋण प्रकरण स्वीकृत किए जा चुके हैं।
कोरोना से सतर्क रहें-आरंभ में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रदेशवासियों से कोरोना से सतर्क रहने की अपील की। उन्होंने कहा कि कोरोना से बचाव के लिए आवश्यक सावधानियों जैसे मास्क लगाना, दो गज की दूरी, बार-बार हाथ धोना और सेनेटाइजर का उपयोग जरूरी है। इसमें लापरवाही न बरती जाए। केरल और महाराष्ट्र में लगातार मामले बढ़ रहे हैं।
आवश्यक सावधानियां अपनाकर ही कोरोना से बचा जा सकता है। कोरोना चला गया है, यह मानकर लापरवाह होने का समय नहीं है।
बहनें ठीक तो मामा खुश
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने देवास के रालामंडल की श्रीमती पिंकी से पूछा कि योजना की जानकारी कैसे मिली और पैसे मिलने में कोई परेशानी तो नहीं आई। श्रीमती पिंकी ने बताया कि योजना में मिले ऋण से सिलाई का काम बड़ा है और अब स्वयं की दुकान खोलने और इंटरलॉक की मशीन लेने की योजना है। श्रीमती पिंकी ने मुख्यमंत्री श्री चौहान से उनका हाल पूछा तो श्री चौहान ने कहा कि बहनें ठीक तो मामा खुश।
रामा टी-स्टॉल पर पिएंगे चाय
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि श्री रैकवार की कहानी से प्रदेश के बहुत से लोगों को मदद मिलेगी। दमोह के ग्राम बांदकपुर में रामा टी-स्टॉल चाय की दुकान चला रहे रामचरण रैकवार से मुख्यमंत्री ने कहा कि वे उसकी दुकान पर चाय पीने जरूर आएंगे। श्री रैकवार ने ऋण लेने और उससे अपने काम को बढ़ाने की प्रक्रिया की विस्तार से जानकारी दी।