खुले मंच से पीएफआई ने खेला दलितों व पिछड़ों को बरगलाने का खेल
   Date19-Feb-2021

dc8_1  H x W: 0
पीएफआई के झंडावंदन के बाद जागा प्रशासन, देर शाम लगाई धारा 144
उज्जैन ठ्ठ (स्वदेश समाचार)
शहर में बुधवार को पॉपुलर फ्रं ट ऑफ इंडिया (पीएफआई) का स्थापना दिवस मनाया गया। सही मानये ने पीएफआई ने खुले मंच से दलितों, पिछड़ों को बरगलाने का खेल भी खेला है।
उक्त संगठन पर उग्रवादी व देश विरोधी गतिविधियां संचालित करने के आरोप समय-समय पर लगते रहे हैं। केरल में संगठन को बैन भी किया, लेकिन न्यायालय प्रक्रिया से बैन हट गया। उज्जैन में उक्त संगठन तेजी से अपने पैर फैला रहा है। इसी के साथ मुस्लिम समाज के बीच कार्य करने वाले पीएफआई ने अपने स्थापना दिवस पर दलितों और पिछड़ों, अल्पसंख्यक के प्रति जमकर दिखावटी प्रेम जाहिर किया। हालांकि संगठन पर प्रतिबंध नहीं होने के चलते प्रशासन ने उन्हें कार्यक्रम की अनुमति दे दी, लेकिन मामला तूल पकडऩे के बाद प्रशासन ने देर शाम ही ताबड़तोड़ धारा 144 के तहत प्रतिबंधित आदेश जारी कर दिया। पुलिस की टीम पूरे कार्यक्रम पर पैनी नजर बनाए रही। साथ ही अब ऐसी सभी गतिविधि पर नजर रखी जा रही है, जो समाज का सौहार्द बिगाड़ सकती है। एसपी सत्येंद्र कु मार शुक्ल का कहना है कि सामान्य कार्यक्रम की अनुमति है। किसी भी तरह की कानून विरोधी गतिविधि हुई तो सख्त कार्रवाई की जाएगी।