पूर्वी एशिया के हब के तौर पर उभरेंगे असम-पूर्वोत्तर क्षेत्र - मोदी
   Date19-Feb-2021

dc6_1  H x W: 0
असम में 9,500 करोड़ की लागत से कनेक्टिविटी परियोजनाओं का शुभारंभ
नई दिल्ली ठ्ठ 18 फरवरी (वा)
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को असम में 9,500 करोड़ रुपए की लागत से कनेक्टिविटी परियोजनाओं का शुभारंभ करते हुए कहा कि इन सभी परियोजनाओं के क्रियान्वयन के साथ ही असम और पूर्वोत्तर क्षेत्र पूर्व-एशिया के हब के रूप में उभरेंगे।
श्री मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से अंतरदेशीय जल परिवहन संपर्क में सुधार के लिए महाबाहु-ब्रह्मपुत्र परियोजना की शुरुआत की, एक पुल का शिलान्यास किया और दूसरे पुल का भूमिपूजन कार्य सम्पन्न किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के शासनकाल में पूर्वोत्तर में विकास और प्रगति को गति मिली और वर्तमान 'डबल इंजनÓ सरकार ने इसे और गति दी है। श्री मोदी ने कहा कि दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों के साथ पूर्वोत्तर क्षेत्र को जोडऩे में जलमार्ग एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। उन्होंने कहा कि 'आत्मनिर्भर भारतÓ की पहल से असम और पूर्वोत्तर क्षेत्र और मजबूत होगा। उन्होंने कहा कि 3231 करोड़ रुपए की लागत से निर्मित होने वाले महाबाहु-ब्रह्मपुत्र परियोजना के तहत ब्रह्मपुत्र में तीन स्थानों पर रो-पैक्स नौका सेवाओं की शुरुआत, अंतरदेशीय जल परिवहन टर्मिनल का निर्माण, चार स्थानों पर पर्यटक जेटी और व्यापार करने में आसानी के लिए दो ई-पोर्टल लॉन्च करना शामिल हैं।
श्री मोदी ने असम में धुबरी और मेघालय में फूलबाड़ी के बीच ब्रह्मपुत्र पर चार लेन के पुल का भी शिलान्यास किया। करीब 5,000 करोड़ रुपए की लागत से बनने वाला ब्रह्मपुत्र पर 19 किमी लंबा पुल भारत का सबसे लंबा नदी पुल होगा और इससे 20 लाख लोगों को लाभ मिलने की उम्मीद है। केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने इस अवसर पर लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि कुल 15,000 करोड़ रुपए की नई परियोजनाओं से असम और अन्य पूर्वोत्तर राज्यों में कनेक्टिविटी और अर्थव्यवस्था में बड़ा परिवर्तन होगा।