उत्तराखंड आपदा : 170 की तलाश जारी
   Date11-Feb-2021

zx4_1  H x W: 0
अब तक 33 शव बरामद, 10 लोगों की पहचान हुई तपोवन। मैक्सार तकनीक द्वारा ली गई यह तस्वीर उत्तराखंड के तपोवन में निर्माणाधीन तपोवन विष्णुगाड जलविद्युत संयंत्र परियोजना को प्राकृतिक आपदा से हुए नुकसान को दर्शा रहा है।
देहरादून ठ्ठ 10 फरवरी (वा)
उत्तराखंड के चमोली में बीते रविवार ग्लेशियर टूटने से हुई त्रासदी में गुमशुदा व्यक्तियों और अभी तक मिले शवों की संख्या में अंतर सामने आया है।
पुलिस मुख्यालय में बने कंट्रोल रूम द्वारा बुधवार शाम जारी आंकड़े के अनुसार प्राकृतिक आपदा में अभी तक 197 लोग लापता हैं। लापता लोगों में से 33 लोगों के शव अलग-अलग स्थानों से बरामद किए जा चुके हैं। जिनमें से 10 लोगों की शिनाख्त हो गई है और 23 लोगों की शिनाख्त नहीं हो पाई है। इसके विपरीत, आपदा नियंत्रण केन्द्र द्वारा इसी समय दी गई जानकारी के अनुसार, 34 शव बरामद हुए हैं, जिनमें 9 की शिनाख्त हुई है, जबकि 170 लापता व्यक्तियों की तलाश की जा रही है। पुलिस कंट्रोल रूम के प्रभारी एवं पुलिस मुख्यालय के प्रवक्ता डीआईजी नीलेश आनन्द भरणे के अनुसार, आपदा में लापता तथा बरामद शवों की पहचान के लिए सोशल मीडिया का भी उपयोग किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि बरामद शवों के डीएनए सैम्पलिंग और संरक्षण के लिए राज्य एफएसएल की भी मदद ली जा रही है ।
और सभी मानदंडों का पालन किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि बरामद शवों को मोरचरी कर्णप्रयाग, जोशीमठ और गोपेश्वर में रखा गया है। आपदा में लापता हुए लोगों की सूची एवं बरामद हुए शवों की पहचान हेतु अन्य राज्यों की पुलिस से भी लगातार पत्राचार किया गया है। शवों से मिले आभूषण, टैटू एवं अन्य पहचान चिन्हों की फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी कर उन्हें सुरक्षित रखा जा रहा है। उन्होंने बताया कि जनपद चमोली में स्थापित कन्ट्रोल रूम का नम्बर 01372-251487 एवं मोबाइल नम्बर 9084127503 है।