shrikant
   Date20-Dec-2021

er3_1  H x W: 0
विश्व बैडमिंटन स्पर्धा में बिखेरी चमक
हुएलवा (स्पेन) ठ्ठ 19 दिसम्बर (वा)
भारतीय शटलर किदाम्बी श्रीकांत ने बीडब्ल्यूएफ विश्व चैम्पियनशिप में इतिहास रच दिया। उन्होंने टूर्नामेंट का रजत पदक अपने नाम किया। ऐसा करने वाले वह पहले पुरुष भारतीय शटलर बने। खिताबी मुकाबले में उनकी भिड़ंत सिंगापुर के लोह किन येव से हुई, जिसमें उन्हें हार का सामना करना पड़ा। लोह ने 21-15 और 22-20 से मैच अपने नाम किया।
पूर्व विश्व नंबर वन भारतीय शटलर ने पहले गेम में शानदार शुरुआत की और 9-7 की लीड बना ली। हालांकि, यहां से किन येव ने जो बढ़त बनाई तो पीछे मुड़कर नहीं देखा। उन्होंने पहले 16-13 और फिर 20-15 से बढ़त बनाते हुए 21-15 से गेम अपने नाम किया। दूसरे गेम में किदाम्बी ने लय में वापसी करते हुए 49 शॉट की रैली हुई, जिसे उन्होंने धांसू स्मैश लगाते हुए अपने नाम किया। इसके बाद 18-16 की बढ़त ली, लेकिन इसे बनाए नहीं रख सके। दोनों के बीच 20-20 पर यानी गेम पॉइंट जोरदार टक्कर देखने को मिली, लेकिन लोह इस गेम को 22-20 से जीतने में कामयाब रहे। इसके साथ ही वह विश्व चैम्पियन बन गए।
पदक जीतने वाले चौथे भारतीय - 28 वर्षीय श्रीकांत इस प्रतिष्ठित चैम्पियनशिप के फाइनल में पहुंचने वाले पहले भारतीय पुरुष खिलाड़ी बने थे। इससे पहले भारत को पुरुषों के सिंगल्स वर्ग में 3 पदक मिले थे। साल 1983 में प्रकाश पादुकोण और 2019 में बी साई प्रणीत ने कांस्य पदक पर कब्जा जमाया था।
जबकि लक्ष्य सेन को इस वर्ष कांस्य पदक मिला। ओवरऑल की बात करें तो पीवी सिंधु ने विश्व चैम्पियनशिप में पांच पदक (स्वर्ण पदक) जीते हैं, जबकि सायना नेहवाल के नाम दो पदक हैं। ज्वाला गुट्टा और अश्विनी पोनप्पा की महिला युगल जोड़ी ने भी 2011 में कांस्य पदक जीता था।
ऐसा है किदाम्बी का रिकॉर्ड - किदाम्बी श्रीकांत की इस समय विश्व में रैंकिंग 14वीं हैं। उन्होंने कॅरियर में अभी तक 398 मैच खेले हैं, जिनमें 256 में उन्हें जीत मिली है। इस दौरान उन्होंने 142 मैच गंवाए हैं। साल 2021 में भारतीय शटलर श्रीकांत ने कुल 35 मैच खेले हैं, जिनमें से उन्हें 18 में जीत नसीब हुई है, वहीं 17 मुकाबलों में हार का सामना करना पड़ा है।