sihore
   Date13-Dec-2021

er7_1  H x W: 0
सीहोर ठ्ठ 12 दिसम्बर (ब्यूरो)
बुधवार को तमिलनाडु के कुन्नूर में हुई हेलिकाप्टर दुर्घटना में सीडीएस जनरल बिपिन रावत की सुरक्षा में तैनात पीएसओ जितेंद्र कुमार वर्मा की पार्थिव देह सीहोर जिले में उनके गांव धामंदा में पंचतत्व में विलीन हो गई। छोटे भाई धर्मेंद्र ने शहीद के डेढ़ साल के बेटे चेतन के सामने मुखाग्नि दी । इस दौरान धामंदा गांव में अपने लाड़ले वीर सपूत को अंतिम विदाई देने जनसैलाब उमड़ पड़ा। अंतिम संस्कार से पहले यहां मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने शहीद जवान की पार्थिव देह को श्रद्धांजलि दी। उनके अलावा सांसद रमाकांत भार्गव, सीहोर विधायक सुदेश राय, आष्टा विधायक रघुनाथ सिंह मालवीय, इछावर विधायक करण सिंह वर्मा सहित सेना के वरिष्ठ अधिकारियों ने शहीद के पार्थिव शरीर पर श्रद्धासुमन अर्पित किए। यहां पूरे सैनिक सम्मान के साथ शहीद जवान को अंतिम विदाई दी गई। भोपाल से उनके गांव धामंदा तक श्रद्धांजलि देने के लिए रास्तेभर लोग उमड़े।
इससे पहले आज सुबह करीब पौने ग्यारह बजे दिल्ली से सेना के विशेष विमान के जरिए भोपाल एयरपोर्ट पर पहुंची। विमानतल पर लेफ्टिनेंट कर्नल आनंद गोखले के नेतृत्व में 3 ईएमई सेंटर की 20 जवानों की टीम ने शहीद जितेंद्र कुमार के शव को सलामी दी। राजा भोज विमानतल पर भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष वीडी शर्मा, चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, विधायक रामेश्वर शर्मा और भाजपा जिलाध्यक्ष सुमित पचौरी समेत अनेक नेताओं व कार्यकर्ताओं ने एयरपोर्ट पर शहीद जवान को श्रद्धांजलि अर्पित की, साथ ही जिला प्रशासन व पुलिस के आला अधिकारियों ने भी जवान के शव पर श्रद्धासुमन अर्पित किए। यहां से शहीद जवान के शव को सड़क मार्ग के जरिए सेना के विशेष वाहन से धामंदा गांव के लिए रवाना किया गया। बैरागढ़ में सलामी के बाद भोपाल-इंदौर हाईवे से नायक जितेंद्र का पार्थिव शरीर निकला, जिसको करीब 55 किमी के सफर में 50 से अधिक स्थानों पर स्वागत द्वार लगाकर जवान के पार्थिव शरीर पर पुष्पवर्षा की।
सेना के वाहन के आगे 5 डीजे चल रहे थे, जिनमें देशप्रेम के गाने बजते हुए आगे बढ़ रहे थे। वहीं पीछे-पीछे हजारों की संख्या में लोग चल रहे थे। इस मौके पर अमलाजा टोल से हाईवे को एकल कर दिया था। वाहन में सेना के लोग सहित आसपास पुलिस व आर्मी के फालो वाहन चल रहे थे।
कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराजसिह चौहान, सांसद रमाकांत भार्गव, सीहोर विधायक सुदेश राय, आष्टा विधायक रघुनाथ सिंह मालवीय, इछावर विधायक करण सिंह वर्मा सहित सेना के वरिष्ठ अधिकारी शामिल हुए। मौके पर 20 हजार से अधिक लोग भाव-विभोर होकर श्रद्धाजंलि दे रहे थे, वहीं जब जवान का पार्थिव शरीर धामंदा स्थित घर पहुंचा तो परिजनों की आंखों में आंसुओं के साथ ही गर्व दिखाई दे रहा था। जवान के मां-पिता व पत्नी का रो-रोकर बुला हाल था, वहीं बच्चे भी उनको रोता देख बिलख रहे थे। नायक जितेंद्र वर्मा की पार्थिव देह दोपहर 1 बजे धामंदा पहुंची, जिनकी अंतिम विदाई में मुख्यमंत्री सहित अन्य जनप्रतिनिधि व हजारों लोग शामिल हुए। इससे पूर्व ही पूरे गांव व हाईवे के किनारे दिवंगत जितेंद्र वर्मा के पोस्टरों से पटा हुआ दिखाई दिया। श्मशान घाट को फूलमालाओं से सजाया गया था। पुलिस-प्रशासन सुबह से ही गांव में अलर्ट रही। दिवंगत जवान का पार्थिव शरीर पर फंदा टोल, क्रिसेंट चौराहा, सोया चौपाल, गुड़भेला, सोंडा, अमलाहा और भाड़ाखेड़ी जोड़ सहित 50 से अधिक जगह हजारों लोगों ने दिवंगत जवान की देह पर पुष्पवर्षा कर भारत माता की जयघोष लगाते हुए श्रद्धासुमन अर्पित किए।