shivraj
   Date12-Dec-2021

sx6_1  H x W: 0
ग्वालियर ठ्ठ 11 दिसम्बर (वा)
मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने आज ग्वालियर के एमआईटीएस कॉलेज में ड्रोन मेले का शुभारंभ किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि ड्रोन मेला अद्भुत है, यह लोगों का जीवन बदल देगा। किसानों को अपने कंधे पर लाद खाद नहीं डालना पड़ेगा। वहीं केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मंच से भोपाल, इंदौर, जबलपुर, सतना व ग्वालियर में ड्रोन स्कूल खोले जाने की घोषणा की है।
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ड्रोन की उपयोगिता पर प्रकाश डालते हुए कहा कि जब गुना में बाढ़ आई तो नाव तक नहीं पहुंच पा रही थी। ऐसे में ड्रोन का सहारा लिया गया, जिसके जरिए पेड़ पर बैठे लोग ही नहीं, कौन कहां पर है, इसका भी आसानी से पता लगाया जा सका। उन्होंने कहा कि सिंधिया देश के लिए हैं ही, लेकिन प्रदेश के लिए भी हैं। उन्होंने कहा कि मैं वचन देता हूं कि ड्रोन टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करके प्रदेश के विकास पर काम किया जाएगा।
मेले से ड्रोन के प्रति जागरुकता आएगी-तोमर
केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि इस मेले से ड्रोन के प्रति जागरुकता आएगी। इसके लिए ज्योतिरादित्य सिंधिया का कृतज्ञ होना चाहिए। प्रधानमंत्री श्री मोदी का यह प्रयास रहा है कि भारत दुनिया मे किसी विद्या से पीछे न रहे। भारत अग्रणी हो, तकनीक बढ़े। आज भारत सोलर एलाइंस में दुनिया का लीडर बन चुका है, ग्रीन एनर्जी के क्षेत्र में देश अग्रणी है। उन्होंने कहा कि जब देश में टिड्डी दल का खतरा मंडराया तो ड्रोन की जरूरत महसूस की गई थी, तब सिविल एविएशन सामने आई और क्लियरेंस मिला। टिड्डों को मारने के बाद अब उनकी दोबारा वापसी नहीं हुई। ड्रोन से गांवों में सर्वे हो रहा है और लोगों को उनकी जमीन व मकान का मालिकाना हक मिल रहा है। कृषि के क्षेत्र में ड्रोन का इस्तेमाल करना बहुत उपयोगी है।