rail
   Date16-Nov-2021

rt2_1  H x W: 0
भोपाल द्य 15 नवम्बर (ब्यूरो)
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में रहे। यहां उन्होंने देश के पहले विश्वस्तरीय रेलवे स्टेशन का उद्घाटन किया। 450 करोड़ रु. की लागत से बने रानी कमलापति रेलवे स्टेशन को सार्वजनिक-निजी भागीदारी के तहत विकसित किया गया है। पहले इस स्टेशन का नाम हबीबगंज था, लेकिन मध्यप्रदेश सरकार की अनुशंसा पर केंद्र ने इसका नाम आखिरी आदिवासी गोंड रानी कमलापति के नाम पर रखने का फैसला किया था। लोकार्पण के बाद प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कार्यक्रम को संबोधित भी किया।
प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि आज का दिन भोपाल के लिए, मध्यप्रदेश के लिए और पूरे देश के लिए गौरवपूर्ण इतिहास व वैभवशाली भविष्य के संगम का दिन है। भोपाल के इस ऐतिहासिक रेलवे स्टेशन का केवल कायाकल्प ही नहीं हुआ है, बल्कि किन्नौरगढ़ की रानी कमलापति का इससे नाम जुडऩे से इसका महत्व और बढ़ गया है। गोंडवाना के गौरव से आज भारतीय रेल का गौरव भी जुड़ गया है। यह सब ऐसे समय में हुआ, जब आज देश जनजातीय गौरव दिवस मना रहा है।
इस दौरान उन्होंने रेलवे की पहले की तस्वीर और आज की तस्वीर की तुलना की और कहा कि आज के समय में हम तेजी से बेहतर बुनियादी ढांचे और सुविधाओं पर काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सरकार देश के हर वर्ग के लोगों के लिए सेवाओं को बेहतर और सुलभ बनाने के लिए प्रतिबद्ध है। हम न केवल परियोजनाओं को शुरू करने, बल्कि उन्हें समय पर पूरा करने पर भी जोर दे रहे हैं।
पुरानी विरासत को आधुनिकता के साथ ढाल रहे - श्री मोदी ने कहा कि एक समय था, जब रेलवे के इन्फ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट को ड्राइंग बोर्ड से जमीन पर उतरने में सालों-साल लग जाते थे। मेरे सामने कई प्रोजेक्ट ऐसे आए, जो 35 साल पहले घोषित कर दिए गए थे, लेकिन अभी तक पूरे नहीं हो पाए। जितनी जल्दी नए प्रोजेक्ट की प्लानिंग की है, उतनी ही गंभीरता उन्हें समय पर पूरा करने की भी है। आज सेमी हाईस्पीड ट्रेनें नेटवर्क का हिस्सा बनती जा रही है। रेलवे अपनी पुरानी विरासत को आधुनिकता के साथ ढाल रहा है।
आम आदमी के लिए तीर्थाटन-पर्यटन की सुविधा - उन्होंने कहा- पहली बार आम आदमी को उचित राशि में रेलवे के जरिए पर्यटन और तीर्थाटन का अद्भुत अनुभव दिया जा रहा है। कुछ दिन विशेष रामायण एक्सप्रेस ट्रेन अपने सफर पर निकल चुकी है। आने वाले दिनों में देश के अलग-अलग हिस्सों से कुछ और रामायण एक्सप्रेस ट्रेनें भी चलने वाली हैं। रेलवे के इन्फ्रास्ट्रक्चर, ऑपरेशन और एप्रोच में व्यापक सुधार किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि ट्रेनों की गति में सुधार आया है और दुर्घटनाओं में भी कमी आई है।
बेहतर सुविधाएं देना करदाताओं का सही सम्मान - प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि गुणवत्तापूर्ण इन्फ्रास्ट्रक्चर और सुविधाओं की देश के करदाताओं को और मध्यम वर्ग को हमेशा उम्मीद रही है। उन्हें ये सुविधाएं दी जाएं, यही इन करदाताओं का सही सम्मान है। रेलवे स्टेशनों के पूरे ईकोसिस्टम को इसी तरह से बदलने के लिए आज देश के 175 से अधिक स्टेशनों का कायाकल्प किया जा रहा है और नई ट्रेनें चलाने की तैयारी की जा रही है। आधुनिक इन्फ्रास्ट्रक्चर के लिए भारतीय रेलवे अब रिकॉर्ड निवेश कर रहा है।