उज्जैन की जीवाजी वेधशाला को मिलेगी वैश्विक पहचान
   Date07-Jan-2021

df5_1  H x W: 0
भोपाल/उज्जैन ठ्ठ स्वदेश समाचार
उज्जैन स्थित जीवाजी वेधशाला की वैश्विक पहचान बनाने के लिए आवश्यक नवाचार करने के निर्देश दिए।
स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री इन्दरसिंह परमार नेआज मंत्रालय में आयोजित स्कूल शिक्षा विभाग की बैठक में उज्जैन की जीवाजी वेधशाला की वेबसाइट, टिकट और ब्रोशर की डिजाइन का अनुमोदन किया। उन्होंने कहा वेधशालाएं भारत की ज्योतिषीय गणना के प्राचीन केंद्र हैं। इस वेबसाइट से पूरी दुनिया भारत की ज्योतिषीय गणना और यंत्रों से परिचित हो सकेगी। श्री परमार ने वेधशाला की वेबसाइट, ब्रोशर और टिकट को शीघ्र ऑनलाइन अपलोड एवं क्रियान्वित करने के निर्देश दिए। जीवाजी वेधशाला उज्जैन की वेबसाइट में समय-मापन और नक्षत्रों की गणना के मध्यकालीन यंत्रों एवं आधुनिक उपकरणों की संक्षिप्त जानकारी दी जाएगी। इसके साथ ही मौसम विज्ञान यंत्र, दृश्य, ग्रह स्थिति और पंचांग के साथ नक्षत्र-वाटिका को रुचिकर चित्रों और सरल भाषा में दर्शाया जाएगा।
अंतरिक्ष की रोमांचक यात्रा नाम से प्रकाशित होने वाले ब्रोशर में जीवाजी वेधशाला की स्थापना के संक्षिप्त विवरण के साथ उज्जैन की आस्था, विज्ञान और समृद्धि की गाथा दर्शाई जाएगी। हिंदी और अंग्रेजी भाषा में उपलब्ध यह ब्रोशर पर्यटकों को टिकट के साथ नि:शुल्क दिया जाएगा जिससे उन्हें वेधशाला में शोधों और क्रियाकलापों को समझने में आसानी होगी। वेधशाला के प्रवेश टिकट पर बारकोड भी मुद्रित किया जाएगा, जिससे आगंतुक उस बारकोड को स्कैन कर वेधशाला की समस्त जानकारियां आसानी से प्राप्त कर सकेंगे। वेधशाला से जुड़ी सामग्रियों और गतिविधियों पर आधारित स्मृति चिन्ह (सोविनियर्स) भी उपलब्ध रहेंगे।