शरारती तत्व डाल सकते हंै रुकावटें
   Date12-Jan-2021

rd1_1  H x W: 0
प्रधानमंत्री की टीकाकरण पर मुख्यमंत्रियों से चर्चा,चेताया
जरूरत के हिसाब से तैयार की दोनों वैक्सीन
टीके के 2 डोज होंगे, 28 दिन के अंतर से लगेंगे
नई दिल्ली ठ्ठ 11 जनवरी (ए)
देशभर में 16 जनवरी से कोरोना महामारी के खिलाफ टीकाकरण अभियान शुरू किए जाने से पहले श्री मोदी ने सोमवार को सभी राज्यों और केन्द्रशासित प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से वैक्सीन के सुचारु वितरण तथा अन्य मुद्दों पर चर्चा की। श्री मोदी ने कहा- जिन्हें टीका लगाया जा रहा है, वो भी संक्रमण को रोकने के लिए जो सावधानियां हैं, उन्हें फॉलो करें। हर राज्य और केंद्रशासित प्रदेश को सुनिश्चित करना होगा कि अफवाहों को कोई हवा ना मिले। देश और दुनिया के शरारती तत्व इस अभियान में रुकावट डालने की कोशिश कर सकते हैं।
उन्होंने कहा कि पहले चरण में तीन करोड़ लोगों का टीकाकरण किया जाएगा, जिनमें स्वास्थ्यकर्मी और अग्रिम मोर्चे पर तैनात कर्मचारी शामिल हैं। प्रधानमंत्री ने कहा- हमारी दोनों वैक्सीन दुनिया की सभी वैक्सीन के लिहाज से किफायती हैं। इन्हें देश की जरूरतों के हिसाब से तैयार किया गया है। अगर हमें पूरी तरह से विदेशी वैक्सीन पर निर्भर होना पड़ता तो आप सोचिए कि कितनी परेशानी होती। भारत के टीकाकरण का जो अनुभव है, जो सुदूर इलाकों तक पहुंचने की सुविधाएं हैं, वो टीकाकरण के लिए जरूरी है। कोरोना वैक्सीन के दो डोज होंगे। इन्हें 28 दिन के अंतर से दिया जाएगा। सभी को दो डोज लगाने होंगे, तभी वैक्सीन शेड्यूल पूरा होगा। दूसरा डोज देने के दो हफ्ते बाद शरीर में कोरोना से बचाने वाली एंटीबॉडी बन जाएंगी। एंटीबॉडी यानी शरीर में मौजूद वह प्रोटीन, जो वायरस, बैक्टीरिया, फंगी और पैरासाइट्स के हमले को बेअसर कर देता है। श्री मोदी ने कहा- सरकार ने आने वाले कुछ ही महीनों में 30 करोड़ लोगों को टीका लगाने का लक्ष्य रखा है। प्रधानमंत्री ने इस बात पर भी जोर दिया कि किसी भी हालत में किसी भी तरह की ढिलाई नहीं बरती जानी चाहिए और देशभर में कोरोना प्रोटोकाल का पूरी सख्ती से पालन किया जाना चाहिए।