10 को वायुसेना बेड़े की शान बनेगा राफेल
   Date08-Sep-2020

cv3_1  H x W: 0
नई दिल्ली द्य 7 सितम्बर (वा)
अत्याधुनिक लड़ाकू विमानों की कमी का सामना कर रही वायुसेना के लिए आगामी 10 सितम्बर का दिन काफी महत्वपूर्ण है। क्षेत्र में शक्ति संतुलन को बदलने की ताकत रखने वाला यह विमान फ्रांस से खरीदा गया है और इस दिन वायुसेना के लड़ाकू विमानों के बेड़े में औपचारिक रूप से शामिल होने के बाद यह इसकी शान बनेगा। वायुसेना के लिए तुरूप का इक्का माने जाने वाले पांच राफेल विमानों की पहली खेप गत जुलाई में ही भारत आई थी। सेना के अनुसार इन विमानों को 10 सितम्बर को अंबाला वायुसेना स्टेशन में वायुसेना में औपचारिक रूप से शामिल किया जाएगा। रक्षा मंत्री राजनाथसिंह और फ्रांसीसी रक्षा मंत्री फलोरेंस पार्ले भी इस मौके पर हरियाणा के अंबाला स्थित वायुसेना स्टेशन में मौजूद रहेंगी।
वायुसेना ने 59 हजार करोड़ रुपए की लागत से फ्रांस से 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीद का सौदा किया है। इनमें से पांच विमान गत 29 जुलाई को भारत आए थे और चार विमानों की अगली खेप के अक्टूबर में आने की संभावना है। पाकिस्तान और चीन सीमा पर एक साथ दो मोर्चों पर अभियान के लिए वायुसेना के पास राफेल जैसे विमान की बेहद अधिक जरूरत बताई जा रही है।