देश की आकांक्षाओं से जुड़ी है शिक्षा नीति
   Date08-Sep-2020

cv1_1  H x W: 0
नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर राज्यपालों के सम्मेलन में बोले प्रधानमंत्री
नई दिल्ली द्य 7 सितम्बर (वा)
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति किसी सरकार की नहीं, बल्कि देश की होती है और 30 साल बाद पहली बार देश की आकांक्षाओं से जुड़ी नीति बनाई गई है।
श्री मोदी ने सोमवार को नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर राज्यपालों के सम्मेलन में कहा कि सरकार की ओर से बीते दिनों ही नई शिक्षा नीति का ऐलान किया गया है, जिस पर अभी भी मंथन जारी है। देश के लक्ष्यों को शिक्षा नीति और व्यवस्था के जरिए ही पूरा किया जा सकता है। उन्होंने जोर दिया कि शिक्षा नीति में सरकार का दखल कम होना चाहिए, क्योंकि शिक्षा नीति से जितना अधिक शिक्षक अभिभावक और छात्र-छात्राएं जुड़ेगी, उतनी ही इसकी प्रासंगिकता बढ़ेगी। उन्होंने कहा कि नई शिक्षा नीति को तैयार करने में लाखों लोगों से बात की गई, जिनमें छात्र-शिक्षक-अभिभावक सभी शामिल थे। विविधता से भरे मंथन के बाद अमृत निकला है और यही वजह है कि देशभर में इस नीति का स्वागत किया जा रहा है। देश के लोगों में यही भावना है कि वह
शिक्षा नीति में यही सुधार देखना चाहते थे, जो अब पूरा हुआ है। आज हर किसी को ये नीति अपनी लग रही है, जो सुझाव लोग देखना चाहते थे, वो दिख रहे हैं। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए होने वाले इस कार्यक्रम में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक के अलावा सभी राज्यों के शिक्षा मंत्री, राज्यपाल, उपराज्यपाल और विभिन्न विश्वविद्यालयों के कुलपति शामिल हुए। श्री मोदी ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति सिर्फ पढ़ाई के तौर-तरीकों में बदलाव के लिए ही नहीं है, बल्कि यह 21वीं सदी के भारत के सामाजिक और आर्थिक जीवन को नई दिशा देने वाली है। यह आत्मनिर्भर भारत के संकल्प और सामथ्र्य को आकार देने वाली है। उन्होंने कहा कि इससे संबंधित सारे संदेहों और सवालों को सुलझाते हुए देश नई शिक्षा नीति को सफलतापूर्वक लागू कर पाएगा। यह नीति देश के युवाओं को भविष्य की आवश्यकताओं के मुताबिक ज्ञान और कौशल दोनों मोर्चों पर तैयार करेगी। इसमें हर छात्र को सशक्तिकरण करने का रास्ता दिखाया गया है। उन्होंने कहा कि आज सूचना और ज्ञान सभी को मुहैया उपलब्ध कराया जा रहा है और टेक्नोलॉजी का भी फायदा गरीबों और गांव के लोगों तक पहुंच रहा है। इस शिक्षा नीति में इन सभी बातों को ध्यान में रखा गया है और लचीलापन की भी बात रखी गई है।