भारत को आंख दिखाने वालों को कड़ा संदेश है राफेल
   Date11-Sep-2020

zx1_1  H x W: 0
5 राफेल लड़ाकू विमान विधिवत वायुसेना में शामिल, गृहमंत्री राजनाथ ने पड़़ोसी को ललकारा, बोले
अंबाला द्य 10 सितम्बर (वा)
चीन के साथ लंबे समय से सीमा पर चल रही तनातनी के बीच रक्षा मंत्री राजनाथसिंह ने आज कहा कि राफेल लड़ाकू विमान से वायुसेना की ताकत और क्षमता कई गुना बढ़ गई है और यह भारत की ओर आंख उठाने वालों के लिए बड़ा और कड़ा संदेश है।
फ्रांस से खरीदे गए 36 राफे ल लड़ाकू विमानों की पहली खेप के पांच विमान यहां वायुसेना स्टेशन पर एक समारोह में रक्षा मंत्री राजनाथसिंह और फ्रांसीसी रक्षा मंत्री फ्लोरेंस पार्ले की मौजूदगी में वायुसेना के गोल्डन एरो स्क्वाड्रन में विधिवत रूप से शामिल किए गए। ये पांचों विमान गत 27 जुलाई को भारत लाए गए थे। राफेल को शामिल किए जाने से पहले वायुसेना स्टेशन पर सर्वधर्म पूजा की गई, जिसमें सभी धर्मों के प्रतिनिधियों ने अपनी ओर से पूजा-अर्चना की।
इस मौके पर राफेल विमानों ने भारत के स्वदेशी लड़ाकू विमान तेजस के साथ-साथ सुखोई विमानों के साथ तालमेल बैठाते हुए शक्ति तथा तालमेल और जौहर का प्रदर्शन किया। श्री सिंह ने बाद में वायु सैनिकों तथा अधिकारियों को संबोधित करते हुए राफेल विमानों की ताकत का उल्लेख करते हुए चीन और पाकिस्तान को परोक्ष रूप से कड़ा संदेश दिया। उन्होंने कहा- आज इनका शामिल होना, पूरी दुनिया, ख़ासकर हमारी संप्रभुता की ओर उठी निगाहों के लिए एक बड़ा और कड़ा संदेश है। हमारी सीमाओं पर जिस तरह का माहौल हाल के दिनों में बना है या मैं सीधा कहूं कि बनाया गया है, उनके लिहाज से इन विमानों का शामिल होना बहुत अहम है। इस मौके पर रक्षा सचिव डॉ. अजय कुमार, चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत, वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया और कई अन्य गणमान्य व्यक्ति भी मौजूद थे। श्री सिंह ने अपने संबोधन के बाद वायुसेना के 17वें स्क्वाड्रन गोल्डन एरो के कमांडिंग अफसर ग्रुप कैप्टन हरकीरत सिंह को राफेल लड़ाकू विमानों को वायुसेना में शामिल किए जाने से संबंधित दस्तावेज सौंपे। इसके साथ ही ये विमान विधिवत रूप से वायुसेना के लड़ाकू विमानों के बेड़े में शामिल हो गए। राफेल से वायुसेना को मिली ताकत का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा- मुझे आशा ही नहीं, पूर्ण विश्वास है कि हमारी वायुसेना ने राफेल के शामिल होने के साथ जो क्षमता और प्रौद्योगिकी पर आधारित बढ़त हासिल की है, उससे वायुसेना की क्षमता में क्रांति आएगी। रक्षा मंत्री ने कहा कि राफेल विमान का वायुसेना के बेड़े में शामिल होना फ्रांस और भारत के बीच प्रगाढ़ संबंधों को दर्शाता रहा है।