संस्कृत विश्व की सर्वश्रेष्ठ भाषा
   Date27-Jun-2020

dharmdhara_1  H
धर्मधारा
संस्कृत के संस्पर्श में भारत की अनुभूति होती है। प्रो. मैक्समूलर ने ये उद्गार उस समय व्यक्त किए, जब वे संस्कृत सीख रहे थे। संस्कृत को सीखते समय वे घंटों अध्ययन में डूबे रहते। कई बार उनके मित्र उन्हें टोकते, उनसे पूछते-'ऐसा क्या है इसमें, जो आप सब कुछ भूल जाते हैं?Ó इस पर वो बोलते है-'यह सच है कि अध्ययन करना मेरी प्रकृति है, पर संस्कृत के अध्ययन में कुछ विशेष है। इसे पढ़ते समय, सीखते समय मैं जैसे ऋषिलोक पहुंच जाता हूं। भारत मेरी भावनाओं में प्रगाढ़ता से अनुभव होने लगता है। मुझे स्वयं में पावनता की सुगंध महसूस होने लगती है। संस्कृत के संपर्क में मुझे बौद्धिकता, तर्कशीलता से काफी कुछ अधिक आत्मा के सुख, सुकून का एहसास होता है। इसे सीखकर मैंने जाना कि यह जीवन-निर्माण की भाषा है।Ó यह अनूठी भाषा विश्व के 260 विश्वविद्यालयों में अभी भी पढ़ाई जाती है। भारत में चार ग्राम ऐसे हैं, जहां संस्कृत व्यवहारभाषा है। उत्तराखंड के दो ग्राम भी संस्कृत ग्राम बनने की दिशा में अग्रसर हैं। संस्कृत व्याकरण के अनुपम ग्रंथ पाणिनीकृत अष्टाध्यायी को अनेकों विदेशी विद्वान, मानव मस्तिष्क की चरम विकसित स्थिति का परिचायक मानते हैं। संस्कृत व्याकरण की सर्वश्रेष्ठता, इसके लेखन और वाचन में एकरूपता होने के कारण ही संस्कृत भाषा को पश्चिमी विद्वान संगणक (कम्प्यूटर) हेतु सर्वश्रेष्ठ भाषा मानते हैं। ऋग्वेद आदि चारों वेद, रामायण, महाभारत, श्रीमद् भगवद्गीता, महाकवि कालिदासकृत, अभिज्ञान शाकुंतलम्, मेघदूतम्, आदि काव्य, पशु-पक्षियों की कथाओं को सुनाकर संपूर्ण राजनीति की शिक्षा देने वाला पंचतंत्र, वात्स्यायन का कामसूत्र, भरतमुनि का नाट्यशा आदि अनेक ऐसे ग्रंथ हैं, जिनका अध्ययन करने के लिए दूर देशों के अनेक विद्वान भारत आते रहे हैं और यह प्रक्रिया आज भी गतिशील है। ये सभी ग्रंथ और ज्योतिष तथा आयुर्वेद जैसी अनूठी विद्याएं, संस्कृत भाषा में ही रचित-वर्णित है। इन ग्रंथों के मूलतत्व का ज्ञान संस्कृत का अध्ययन किए बिना असंभव है। संस्कृत का अध्ययन करने वाले अनेक विदेशी विद्वानों ने कृतार्थता, कृतज्ञता की अनुभूति की है। सर विलियम जोन्स, प्रो. मैकडोनल, प्रो. ड्यूबोई, विल ड्यूरां आदि अ्रेक ऐसे विद्वान है, जिन्होंने संस्कृत को विश्व की सर्वश्रेष्ठ भाषा घोषित किया है। विल ड्यूरां का कहना था-संस्कृत विश्व की सर्वश्रेष्ठ भाषा है। भारत मनुष्य की जन्मभूमि है। संस्कृत यूरोपिय भाषाओं की जननी है। भारत माता सभी की जननी है।