तालाबंदी ने 20 लाख लोगों में संक्रमण व 54 हजार मौतें रोकीं
   Date23-May-2020

zx10_1  H x W:
नई दिल्ली द्य 22 मई (वा)
देश में कोविड-19 की स्थिति पर केंद्र सरकार ने शुक्रवार को कहा है कि तालाबंदी से 20 लाख कोरोना संक्रमण और 54 हजार मौतें रोकी गई हैं। सरकार ने कहा है कि लगभग 80 प्रतिशत केस पांच राज्य महाराष्ट्र, गुजरात, मध्यप्रदेश, पश्चिम बंगाल और दिल्ली से हैं। ऐसे में कहा जा सकता है कि भारत में कोरोना का प्रकोप सीमित क्षेत्र तक ही है। सरकार ने कहा है कि दो स्वतंत्र अर्थशास्त्रियों द्वार तैयार मॉडल से पता चलता है कि तालाबंदी के कारण लगभग 23 कोविड-19 के केस और 68,000 मौतों को टाला गया है। केंद्र सरकार ने बताया कि पब्लिक हेल्थ फाउंडेशन ऑफ इंडिया के अनुसार, तालाबंदी के कारण लगभग 78,000 लोगों की जान बचाई गई है। केंद्र सरकार ने बताया कि जब तालाबंदी शुरू हुई थी, तब देश में कोविड-19 मामलों की डबलिंग रेट 3.4 दिन थी, लेकिन वर्तमान में यह 13.3 दिन है। ऐसे में अगर तालाबंदी नहीं लगाई गई होती तो कोरोना के मामलों में तेजी से वृद्धि देखने को मिलती। वहीं, शुक्रवार को स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि देश में कोरोना वायरस संक्रमण का आंकड़ा शुक्रवार को 1 लाख 18 हजार पहुंच गया है। शुक्रवार दोपहर तक 27 लाख से ज्यादा टेस्ट किए जा चुके हैं। आईसीएमआर ने शुक्रवार को बताया कि अब तक जितने टेस्ट हुए हैं, उनमें से 18287 टेस्ट प्राइवेट लैब में किए गए हैं। आईसीएमआर ने कहा कि एक दिन में 103829 टेस्ट हुए हैं। संक्रमण के चलते अभी तक एक
लाख 85 हजार कोविड बेड का प्रयोग हुआ है। 3 लाख बेड तैयार हैं, जिनका अभी तक प्रयोग नहीं हुआ है। ये आगे की परिस्थिति के लिए है। तालाबंदी के दौरान 2 लाख से ज्यादा कोविड डेडिकेटेड सुविधाएं अस्पतालों में जुटाई गई हैं। 56 लाख से ज्यादा वॉलेंटियर्स को ट्रेनिंग दी गई है। वहीं स्वास्थ्य मंत्रालय के वेबीनार में 24 लाख लोग शामिल हुए हैं। आने वाले 6-8 हफ्ते में हर रोज 5 लाख पीपीई किट देश में तैयार होने लगेगा। 5 कंपनियों के 4-6 वैज्ञानिक वैक्सीन तैयार करने में जुटे हुए हैं। कई के ट्रायल भी शुरू हो चुके हैं।