अम्फान आज दोप. बाद बंगाल व बांग्लादेश के बीच तट से टकराएगा
   Date20-May-2020

sd4_1  H x W: 0
भुवनेश्वर द्य 19 मई (वा)
सुपर साइक्लोन अम्फान मंगलवार को बंगाल की खाड़ी के दक्षिण और मध्य हिस्से में पहुंच गया। यह मंगलवार सुबह 8 बजे से दोपहर 1 बजे के बीच 14 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से आगे बढ़ा। यह कल यानी बुधवार दोपहर बाद बंगाल और बांग्लादेश के बीच सुंदरबन के पास तट से 155 से 165 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से टकराएगा। यह तटीय क्षेत्रों में पहुंचेगा, तब 185 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं। मौसम विभाग ने पश्चिम बंगाल और ओडिशा के साथ ही सिक्किम और मेघालय के लिए भी अलर्ट जारी किया है।
अम्फान फिलहाल ओडिशा के पारादीप से 570 किलोमीटर दक्षिण और पश्चिम बंगाल के दिघा से 720 किलोमीटर दक्षिण-पश्चिम और बांग्लादेश के खेपपुरा से 840 किलोमीटर दक्षिण-पश्चिम में स्थित है। तूफान के हालात पर गृहमंत्री अमित शाह ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक से बात की। उन्होंने दोनों राज्यों को केंद्र की ओर से पूरी मदद देने का भरोसा दिलाया।
तूफान के करीब आने के साथ हवा तेज होगी - दक्षिण तटीय ओडिशा में फिलहाल 70 से 75 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से हवा चल रही है। बुधवार सुबह इसकी रफ्तार 75 से 85 किलोमीटर प्रति घंटे तक पहुंचेगी। साइक्लोन के करीब आने के साथ हवा की रफ्तार बढऩे लगेगी। पहले यह 110 से 120 किलोमीटर प्रति घंटे रहेगी और जब साइक्लोन तट को पार करेगा तो इसकी रफ्तार 155 से 165 किलोमीटर प्रति घंटे तक पहुंच सकती है।
24 टीमों को स्टैंडबाय पर रखा गया - एनडीआरएफ के डीजी एसके प्रधान ने बताया कि आपदा प्रबंधन की 19 टीमें बंगाल और 15 टीमें ओडिशा में तैनात हैं। 6 टीमों को एयरलिफ्ट के लिए स्टैंडबाय किया है। कुल 24 टीमों को स्टैंडबाय पर रखा गया है। एनडीआरएफ लोगों को बचाने को प्राथमिकता दे रही है। सेना, वायुसेना, नौसेना और कोस्ट गार्ड की टीमों को भी अलर्ट पर रखा गया है।
भारी बारिश की चेतावनी - भारतीय मौसम विभाग के महानिदेशक मृत्युंजय मोहपात्रा ने कहा कि तूफान के असर से पश्चिम बंगाल के दक्षिण 24 परगना, उत्तर 24 परगना, पूर्वी मिदनापुर और ओडिशा के तटीय क्षेत्रों के साथ सिक्किम में 7 से 12 सेमी तक बारिश हो सकती है। बुधवार को उत्तरी ओडिशा के जिलों के लिए भारी बारिश का अलर्ट होगा। उत्तर भारत में इसका कोई असर नहीं होगा।
ऊर्जा मंत्रालय की भी पूरी तैयारी - ऊर्जा मंत्रालय के सचिव एसकेजी रहाटे ने कहा कि हमने अपनी टीमों को पश्चिम बंगाल और ओडिशा में तैनात किया है। कोलकाता और भुवनेश्वर में अपना कंट्रोल रूम बनाया है। पावरग्रिड के अधिकारी पश्चिम बंगाल और ओडिशा के ऊर्जा विभाग के संपर्क में हैं।