व्हाट्सएप के मैसेज ने बदल दी जिंदगी
   Date21-Mar-2020

as4_1  H x W: 0
शुजालपुर द्य स्वदेश समाचार
मानवसेवा के लिए मप्र सरकार से रहीम अवार्ड प्राप्त देश के पहले नि:शुल्क रोगी सेवा केंद्र हेल्प फॉर यू द्वारा सोशल मीडिया पर जारी वीडियो को देख दतिया के मजदूर परिवार के बेटे मंथन को ऑपरेशन के लिए दतिया जिला प्रशासन ने 6.50 लाख की मदद जारी की है। भोपाल में अगले सप्ताह ऑपरेशन के बाद जन्म से बोलने-सुनने में अक्षम यह बच्चा भी सुन व बोल सकेगा।
मध्यप्रदेश सहित देश के विभिन्न राज्यों में मूक-बधिर बच्चों को कॉकलियर इम्प्लांट ऑपरेशन कर सुनने व बोलने की क्षमता देने के लिए सरकार द्वारा दी जाने वाली बाल श्रवण योजना की जानकारी सोशल मीडिया से दतिया के मंथन रावत के परिजनों को 3 मार्च को लगी। इसके बाद उन्होंने दूरभाष पर रोगी सेवा केंद्र हेल्प फॉर यू पर संपर्क कर योजना की जानकारी ली और 2 दिन बाद ही वे दस्तावेज लेकर भोपाल के मान्यता प्राप्त चिकित्सालय में पहुंचे। यहां से उन्हें स्टीमेट के साथ ही सभी दस्तावेज तैयार कराने में रोगी सेवा केंद्र के पुरुषोत्तम पारवानी ने मदद की और जिला प्रशासन दतिया को आवेदन करने के बाद 14 मार्च को इस बच्चे के ऑपरेशन के लिए 6.50 लाख रुपए की मदद स्वीकृत की गई है। बच्चे के पिता सतीश रावत कपड़े की दुकान पर बतौर मजदूर काम करते हैं तथा उन्हें अब तक इस योजना की जानकारी न होने से वे बेटे का जन्म से ही इलाज नहीं करा पाए थे।
सोशल मीडिया पर वायरल - सोशल मीडिया पर वायरल हुए सेवा केंद्र के वीडियो को अन्य लोगों ने देखकर सतीश रावत को जानकारी दी तो उन्हें पहले भरोसा नहीं हुआ, लेकिन जब उन्हें मोबाइल पर सारी जानकारी उपलब्ध कराने के साथ मदद का भरोसा दिया गया तो वह बेटे को लेकर अस्पताल पहुंचे। सहायता मिलने के बाद परिजनों ने बताया कि ऑपरेशन के बाद उनके बेटे की जिंदगी बदलेगी। उन्होंने सरकार की इस योजना को भी सराहनीय बताया।
जाने क्या है कॉकलियर इम्प्लांट - यह ऐसा इलेक्ट्रॉनिक उपकरण है, जिसे सर्जरी के द्वारा कान के अंदरूनी हिस्से में लगाया जाता है और जो कान के बाहर लगे उपकरण से चालित होता है। इसका उपयोग आवाज़ को सुनने की असमर्थता को ठीक करने के लिए किया जाता है। इस प्रक्रिया को कॉकलियर इम्प्लांट सर्जरी कहा जाता है। कॉकलियर इम्प्लांट का उपयोग कॉकलिया के खराब होने के कारण बेहरेपन का इलाज करने के लिए किया जाता है। कॉकलियर कान के अंदरूनी हिस्से को कहा जाता है।