अंडर 19 विश्वकप फाइनल आज - बांग्लादेश से होगा मुकाबला पांचवीं बार खिताब जीतने उतरेंगे भारतीय युवा लड़ाके
   Date09-Feb-2020

ws11_1  H x W:
पौचेफस्ट्रूम ठ्ठ 08 फरवरी (वार्ता)
चार बार का चैंपियन भारत पहली बार खिताबी मुकाबले में पहुंचे बंगलादेश के खिलाफ रविवार को होने वाले अंडर-19 विश्वकप टूर्नामेंट के खिताबी मुकाबले में पांचवीं बार ताज अपने नाम करने के इरादे से उतरेगा।
भारतीय टीम कप्तान प्रियम गर्ग के नेतृत्व में चिर-प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान को 10 विकेट से हराकर फाइनल में पहुंची है जबकि बंगलादेश ने न्यूजीलैंड को छह विकेट से हराकर फाइनल में जगह बनायी है। भारत जहां पांचवीं बार खिताब जीतने के इरादे से उतरेगा जबकि पहली बार फाइनल में पहुंचे बंगलादेश की उलटफेर कर खिताब जीतने पर नजर होगी। भारतीय टीम लगातार तीसरी बार और कुल सातवीं बार फाइनल में पहुंची है। भारत ने इससे पहले 2000, 2008, 2012 और 2018 में फाइनल में पहुंचकर खिताब जीता था जबकि वह 2006 और 2016 में फाइनल में पहुंचकर उपविजेता रहा था।
भारत को एक बार फिर अपने बल्लेबाजों और गेंदबाजों से उम्मीद रहेगी जिन्होंने टूर्नामेंट में लगातार शानदार प्रदर्शन किया है। 18 वर्ष के बाएं हाथ के बल्लेबाज यशस्वी जायसवाल का टूर्नामेंट में बेहतरीन प्रदर्शन रहा है और उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ सेमीफाइनल में नाबाद 105 रन की मैच विजयी पारी खेली थी। यशस्वी ने इससे पहले ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ क्वार्टरफाइनल में 62 रन, न्यूजीलैंड के खिलाफ नाबाद 57, जापान के खिलाफ नाबाद 29 और श्रीलंका के खिलाफ 59 रन बनाए थे। वह पांच मैचों में 312 रन के साथ टूर्नामेंट के शीर्ष स्कोरर हैं। यशस्वी के जोड़ीदार दिव्यांश सक्सेना चार मैचों में 148 रन बना चुके हैं। उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ सेमीफाइनल में नाबाद अर्धशतक बनाया था। यदि भारत के दोनों ओपनर खिताबी मुकाबले में चल जाते हैं तो भारत को पांचवीं बार चैंपियन बनने से कोई नहीं रोक सकता।
बंगलादेश के महमूदुल हसन जॉय पांच मैचों में 176 रन बना चुके हैं और उन्होंने भी सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के खिलाफ 100 रन की मैच विजयी पारी खेली थी। बंगलादेश के तनजीद हसन ने पांच मैचों में 149 रन बनाए हैं। भारत की गेंदबाजी उसका सबसे प्रबल पक्ष रही है। लेग स्पिनर रवि बिश्नोई पांच मैचों में 13 विकेट लेकर सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाजों की सूची में चौथे स्थान पर हैं।ऑस्ट्रेलिया को झकझोरने वाले कार्तिक त्यागी ने पांच मैचों में 11 विकेट लिए हैं। आकाश सिंह ने पांच मैचों में सात विकेट और सुशांत मिश्रा ने चार मैचों में पांच विकेट लिए हैं। बंगलादेश की तरफ से रकीबुल हसन पांच मैचों में 11 विकेट और शरीफुल इस्लाम पांच मैचों में सात विकेट ले चुके हैं। भारत की सीनियर टीम पिछले वर्ष इंग्लैंड में हुए एकदिवसीय विश्वकप के सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड से हार गयी थी। लेकिन उसकी जूनियर टीम के पास अब एक मौका है कि वह अपना खिताब बचाए और देश को एक बार फिर विश्व चैंपियन खिताब का तोहफा दे।