एनपीआर के बगैर जातिगत जनगणना नहीं संभव-नायडू
   Date08-Feb-2020

er8_1  H x W: 0
नई दिल्ली द्य 7 फरवरी (वा)
राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने शुक्रवार को सदन में कहा कि राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) के बगैर जातिगत जनगणना संभव नहीं है।
श्री नायडू ने शून्यकाल के दौरान यह टिप्पणी उस समय की, जब जनता दन यूनाइटेड (जदयू) के रामनाथ ठाकुर ने वर्ष 2021 में जनगणना के साथ ही जातिगत गणना करने की भी सरकार से मांग की। श्री ठाकुर ने कहा कि वर्ष 1931 में ब्रिटिश काल में जातिगत गणना किया गया था। इसके बाद संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार ने वर्ष 2010 में भी जातिगत गणना की, लेकिन यह पूरा नहीं हो सका। जातिगत गणना नहीं होने के कारण पिछड़े वर्ग, अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति को विकास कार्य का पर्याप्त लाभ नहीं मिल पा रहा है। उन्होंने केन्द्र सरकार ने वर्ष 2021 में प्रस्तावित राष्ट्रीय जनगणना के साथ ही जातिगत गणना कराने की मांग की और कहा कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतिश कुमार भी कई बार इसकी मांग कर चुके हैं। उधर लोकसभा में शुक्रवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को डंडे मारे जाने वाले बयान को लेकर सत्तारूढ़ भाजपा और विपक्षी कांग्रेस पार्टी के सदस्यों के बीच तीखी नोक-झोंक भोजनावकाश के बाद भी जारी रहा, जिसके बाद पीठासीन अधिकारी ए. राजा ने सदन की कार्यवाही सोमवार तक के लिए स्थगित कर दी। भोजनावकाश के बाद जैसे ही सदन की कार्यवाही शुरू हुई, सत्तापक्ष और विपक्ष हंगामा करने लगे। हंगामे के बीच संसदीय कार्यमंत्री प्रहलाद जोशी ने कहा कि सदन में एक मंत्री के खिलाफ जिस प्रकार का व्यवहार किया गया, वह घोर निंदनीय है। हंगामा नहीं थमने के कारण सदन की कार्यवाही सोमवार तक के लिए स्थगित कर दी गई।