रजनी की राष्ट्रनिष्ठ मुखरता...
   Date06-Feb-2020

vishesh lekh_1  
हर किसी के लिए राष्ट्रीय सरोकारों की एक निश्चित कटौती होती है.., उस कसौटी पर समयचक्र व्यक्ति को उसके राष्ट्रीय योगदान.., राष्ट्रनिष्ठा एवं सामाजिक दायित्व के आईने में निरंतर कसता रहता है... जो उस कसौटी के मापदंड पर खरा उतरता है.., वह शनै: शनै: ही सही जनता के बीच एक नायक या कहें प्रेरणादायी पुरुष के रूप में उभरकर आता है... राष्ट्रनिष्ठा जब भी जाग्रत हो जाए, वह राष्ट्र व समाज के हित में ही है और देश में अनेक तरह के संगठन अपने-अपने स्तर पर लोगों में राष्ट्रीय भाव को जाग्रत करने का प्रकल्प लिए हुए है... यह दूसरा माह है, जब फिल्म अभिनेता एवं दक्षिण में सुपर स्टार के रूप में पहचाने जाने और पूजे जाने वाले रजनीकांत ने दूसरी बार राष्ट्रीय मुद्दों पर अपनी मुखरता के द्वारा यह स्पष्ट कर दिया है कि उनके लिए देश पहले हैं... देश की समस्याओं का समाधान उनके जेहन में है और वे समस्याओं को घटाने का विचार रखते हैं न कि बयानों या कार्यों के जरिये समस्याओं को बढ़ाने/उलझाने का... रजनीकांत ने गत माह सार्वजनिक रूप से स्वीकार किया था कि दक्षिण के समाजसेवी कहे जाने वाले पेरियार ने अपने आंदोलनों के दौरान हिन्दू धर्म के अपमान की पराकाष्ठा को पार किया था... यहां तक दावा रजनीकांत ने किया था कि उनके पास प्रमाण है, इसलिए पेरियार पर की गई टिप्पणी पर माफी नहीं मांगेंगे, क्योंकि पेरियार ने माता सीता और भगवान राम के चित्रों पर जूते की मालाएं चढ़ाई और हिन्दू धर्म का अपमान भी किया था... अब रजनीकांत ने नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के साथ राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) पर भी अपना स्पष्ट विचार रख दिया है... ध्यान रहे कि दक्षिण में द्रमुक, अन्नाद्रमुक व अन्य तमिल पार्टियां जिसमें अभिनेता कमल हसन भी शामिल है, वे सीएए, एनपीआर और एनआरसी का खुल विरोध ही नहीं कर रहे, बल्कि लोगों को भी इसके जरिए भड़का रहे हैं... अगर ऐसे में रजनीकांत ने अपनी लाइन और विचार स्पष्ट कर दिया है कि वे सीएए के खुलकर समर्थन में है और एनपीआर को राष्ट्र के लिए आवश्यक मानते हैं तो यह उनका राष्ट्रनिष्ठ विचार जाग्रत होने जैसा है... जिसका न केवल दक्षिण के राज्यों को भविष्य में लाभ होगा, बल्कि दक्षिण की आम जनता को भी इस तरह के मुद्दों पर दिशा भ्रम दूर होने में सहयोग हो सकेगा... रजनीकांत का स्पष्ट मानना है कि सीएए से भारतीय मुसलमानों को कोई खतरा नहीं है और एनपीआर देश के लिए आवश्यक है, क्योंकि कांग्रेस के नेतृत्व में भी पूर्व सरकारों ने यह नियम लागू किया था... कहने का तात्पर्य यही है कि कांग्रेस, द्रमुक, कमल हसन की तिकड़ी रजनीकांत को अपने पाले में लेकर दक्षिण में चुनावी गठबंधन के मंसूबे पाल रही थी, लेकिन अपने राष्ट्रीय प्राथमिकता को सार्वजनिक मंच पर मुखरता से स्पष्ट करने के बाद रजनीकांत ने यह तो संकेत दे ही दिया है कि उनके लिए राष्ट्रीय मुद्दे और राष्ट्रीय हित सर्वोपरि है... ऐसे में कल कांग्रेस ही रजनीकांत के विरोध में बयानबाजी प्रारंभ कर दे तो अचरज नहीं होना चाहिए, लेकिन यह राष्ट्रीय भाव रजनीकांत का कद बढ़ा रहा है...
दृष्टिकोण
आआपा का षड्यंत्र गोलीकांड...
दिल्ली के विधानसभा चुनाव में लोगों को भ्रम, भय और अफवाह के जरिये भाजपा के खिलाफ खड़ा करने की मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और आआपा के नेताओं की खुराफाती नीति गच्चा खा चुकी है... क्योंकि शाहीन बाग में करीब साठ दिनों से जो हिंसक, अराजक खेल चल रहा है, उसको लेकर भाजपा पहले दिन से ही मुखर है कि इस तरह की गतिविधियां देशद्रोह के रूप में देखी जानी चाहिए...लेकिन कांग्रेस, बसपा, सपा और आआपा के नेता इस शाहीन बाग जमावड़े का न केवल खुलकर समर्थन करते रहे, बल्कि बयानों व आर्थिक खैरात के जरिये उन्हें प्रश्रय ही देते रहे... तभी तो शाहीन बाग प्रदर्शन स्थल पर साजिशन रूप से हवाई फायरिंग कराया गया, ताकि इस मुद्दे को भाजपा नेता अनुराग ठाकुर के उस बयान 'देश के गद्दारों को गोली मारो...Ó से जोड़कर लोगों को भयभीत किया जा सके... लेकिन अब जो जांच रिपोर्ट सामने आई है वह यह स्पष्ट कर रही है कि हवाई फायरिंग करने वाला आआपा का ही कार्यकर्ता है... कपिल गुज्जर के पिता गजेसिंह गुज्जर 3 मई 2019 को आआपा में शामिल हुए थे... और उनका लड़का हवाई फायर करके भाजपा को बदनाम करने की आआपा की साजिश का मुख्य किरदार है... 8 तारीख को दिल्ली में मतदान होना है और आतंकवादियों के हित रक्षकों के लिए जिस तरह से बयानबाज नेता आआपा ने खड़े किए और राष्ट्रीय मामलों में भी जिस तरह से अराजकता का खेल खेलने से आआपा नहीं चूक रही है, इस पूरे राष्ट्रघाती षड्यंत्र में अरविंद केजरीवाल की वास्तविक स्थिति लोगों के सामने आ चुकी है... चुनावी लाभ के लिए प्रायोजित रूप से किया गया गोलीकांड आआपा के गले की हड्डी बन गया है... जनता वोट की चोट के जरिये 8 फरवरी को जवाब देगी...