बच्च चोरी की अफवाह : आक्रोशित ग्रामीणों ने ७ लोगों को घेरकर बर्बरतापूर्वक पीटा, १ की मौत
   Date06-Feb-2020

gh5_1  H x W: 0
मनावर द्य स्वदेश समाचार
राशि नहीं लौटाना पड़े इसलिए बच्चा चोर की अफवाह फैला दी। ऐसी गलत सूचना में लोगों आक्रोशित हो गए और ग्राम बोरलाई में बुधवार को सुबह 11 बजे आक्रोशित ग्रामीणों ने दो कारों को रुकवाया तथा इसमें सवार सात लोगों के साथ जमकर मारपीट की। इसमें छह लोग घायल हो गए। जबकि गणेश पिता मनोज पटेल (४०) की मौत हो गई।
पीडि़तों के दो वाहनों में तोडफ़ोड़ की गई। इसमें से एक वाहन को आग के हवाले कर दिया गया। सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची, लेकिन पुलिस के पहुंचने के बाद भी ग्रामीणों ने मारपीट नहीं रोकी। अश्रु गैस छोड़कर भीड़ को खदेड़ा। कार सवारों को भीड़ के चंगुल से छुड़ाकर अस्पताल लाया गया।
चार लोगों को गंभीर चोट आने पर इंदौर रेफर किया गया। एक को मामूली चोट आई है। एक साथी गायब है। जिसकी पुलिस तलाश कर रही है। पुलिस ने मामले में अवतारसिंह, भुवानसिंह व जामसिंह सहित 40 से 45 अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या, हत्या का प्रयास व बलवा में प्रकरण दर्ज किया है। पूरा मामला खेत में मजदूरी के लिए दी गई एडवांस राशि से जुड़ा हुआ है। बताया जा रहा है कि खेड़ा गांव तहसील सांवेर जिला इंदौर के छह किसानों ने करीब छह माह पहले खेत में मजदूरी के लिए तिरला
ब्लॉक के ग्राम खिरकिया के पांच मजदूरों अवतार, जामसिंह, महेश, राजेश व सुनील को एडवांस के तौर 50-50 हजार कुल ढाई लाख रुपए दिए थे, लेकिन ये सभी इन किसानों के यहां मजदूरी करने की बजाए गुजराते चले गए। इन मजदूरों के बुलाने पर ये सभी किसान दो कार से खिरकिया पहुंचे, जहां 15-20 ग्रामीणों ने रास्ता रोककर इन पर पत्थरबाजी शुरू कर दी। इसे पर ये जान बचाकर भागे। खिरकिया के पत्थरबाजों ने आगे के गांवों में मोबाइल से झूठी सूचना फैला दी कि दो वाहनों में कुछ लोग दो बच्चों का अपहरण कर भागे हैं। इस पर ग्रामीणों ने तीन-चार स्थानों पर वाहनों को रोकने का प्रयास किया। ग्राम बोरलाई में 150 से 200 लोगों ने बाइक अड़ा कर कारों को रोक लिया। कार सवार जान बचाकर एक दुकान में घुसे व दरवाजा अंदर से लगा लिया, लेकिन भीड़ ने दरवाजा तोड़कर उन्हें बाहर निकाला व लकड़ी, पत्थर से मारपीट की। एक कार में तोडफ़ोड़ तो दूसरी में आग लगा दी गई। एक घंटे बाद पुलिस ने पहुंचकर अश्रु गैस छोड़कर भीड़ को तीतर-बीतर किया। मारपीट में गंभीर घायल गणेश (38) पिता मनोज को बड़वानी रेफर किया गया, लेकिन अस्पताल पहुंचते ही उसकी मौत हो गई। कार सवारों के साथ खिरकिया ग्राम का मजदूर मुकेश पिता अंतरलाल था, जो गायब हैं।