पृथ्वी और मयंक करेंगे ओपनिंग राहुल को मध्यक्रम की जिम्मेदारी
   Date05-Feb-2020

vf12_1  H x W:
हैमिल्टन ठ्ठ 04 फरवरी (वार्ता)
भारतीय टीम पांच मैचों की टी-20 सीरीज में ऐतिहासिक कामयाबी हासिल करने के बाद सातवें आसमान पर है और उपकप्तान रोहित शर्मा के चोट के कारण शेष दौरे से बाहर हो जाने के बावजूद टीम इंडिया बुधवार से शुरु हो रही तीन मैचों की वनडे सीरीज में भी अपना विजय रथ दौड़ाने के इरादे से उतरेगी।
रोहित चोट के कारण वनडे और टेस्ट सीरीज से बाहर हो चुके हैं और भारतीय कप्तान विराट कोहली ने साफ तौर पर संकेत दे दिया है कि हैमिल्टन में होने वाले पहले वनडे में पृथ्वी शॉ और मयंक अग्रवाल ओपनिंग की जिम्मेदारी संभालेंगे जबकि टी-20 सीरीज में मैन ऑफ द सीरीज रहे ओपनर लोकेश राहुल को पांचवें नंबर पर उतारा जाएगा। मयंक को चोटिल रोहित की जगह वनडे टीम में शामिल किया गया है और इस मैच से उन्हें अपना वनडे पदार्पण करने का मौका मिलेगा। पृथ्वी पहले ही चोटिल शिखर धवन की जगह वनडे टीम में शामिल कर लिए गए थे। यह लंबे समय बाद पहला मौका होगा जब रोहित और शिखर दोनों ही वनडे टीम में नहीं होंगे और एक नयी ओपनिंग जोड़ी भारत की तरफ से पारी की शुरुआत करेगी। भारत ने इससे पहले पिछले वर्ष न्यूजीलैंड के खिलाफ वनडे सीरीज 4-1 से जीती थी और अभी भी उसने टी-20 में कीवी टीम को 5-0 से रौंदा था जिससे टीम इंडिया का आत्मविश्वास मजबूत हुआ है। न्यूजीलैंड दौरे से पहले पिछले वर्ष के अंत में ऑस्ट्रेलिया के साथ हुई तीन मैचों की सीरीज भी भारत ने 2-1 से जीती थी। पिछले नतीजों की दृष्टि से देखें तो इस मुकाबले में भारत जीत का प्रबल दावेदार है लेकिन न्यूजीलैंड को उसके घर में कम नहीं आंका जा सकता है। हालांकि न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियम्सन पहले दो वनडे से टीम से बाहर हैं।
और कीवी टीम को भारत के खिलाफ उनकी कमी बखूबी खलेगी। विलियम्सन मध्यक्रम में न्यूजीलैंड के मजबूत खिलाड़ी हैं जो पिच पर टिककर भारत के लिए राह कठिन जरुर कर सकते थे लेकिन अब उनकी अनुपस्थिति में कीवी बल्लेबाजों पर भारतीय चुनौती का सामना करने की जिम्मेदारी होगी। विलियम्सन की जगह टॉम लाथम न्यूजीलैंड की कमान संभालेंगे और उनके नेतृत्व में टीम भारत से हाल में टी-20 में मिली करारी हार का बदला लेने उतरेगी। भारत और न्यूजीलैंड दोनों ही टीमें जीत से वनडे सीरीज की शुरुआत करना चाहेंगे।
टीम को क्षेत्ररक्षण में सुधार की जरुरत - विराट
विराट ने न्यूजीलैंड के खिलाफ पहले वनडे की पूर्वसंध्या पर मंगलवार को संवाददाता सम्मेलन में क्षेत्ररक्षण में सुधार पर विशेष जोर दिया। भारत ने यह सीरीज 5-0 से जीती लेकिन उसका क्षेत्ररक्षण अच्छा नहीं रहा था और कई कैच टपकाए गए थे। इसी बात को लेकर भारतीय कप्तान ने क्षेत्ररक्षण में सुधार करने की जरुरत पर बल दिया है। भारतीय कप्तान ने कहा, हमें क्षेत्ररक्षण में सुधार करना होगा। अगर आप देखें तो टीम में औसतन खिलाड़ी की उम्र ज्यादा से ज्यादा 27 वर्ष की है तो हमें इस हिसाब से फील्डिंग करनी होगी। अन्य टीमों के मुकाबले हमारा क्षेत्ररक्षण कुछ खास बेहतर नहीं है। टी-20 क्रिकेट में जल्द से जल्द हालात बदलते हैं तो अगर आप इस दौरान परेशान रहेंगे तो आपको मुकाबले में दिक्कत का सामना करना पड़ेगा। विराट ने साथ ही कहा, एकदिवसीय क्रिकेट में भी हमारा क्षेत्ररक्षण में प्रदर्शन ऐसा नहीं है जिस पर हम गर्व कर सकें। हमने इस बारे में कई बार बात की है। आप एक युवा टीम से हमेशा फिट रहने की उम्मीद करते हैं। क्रिकेट ऐसा खेल है जहां तीनों विभागों में आपको बेहतर प्रदर्शन करना होता है। बल्लेबाजी और गेंदबाजी की तरह क्षेत्ररक्षण भी उतना ही महत्वपूर्ण है। हमें अपनी कमियों को दूर कर आगे बढऩा होगा।
---