आतंकवाद से लडऩे के लिए दोनों देश सहमत
   Date25-Feb-2020

f_1  H x W: 0 x 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बीच मंगलवार को हैदराबाद हाउस में द्विपक्षीय वार्ता हुई, जिसमें 3 अरब डॉलर के रक्षा सौदे पर हस्ताक्षर किए गए हैं। दोनों वैश्विक नेताओं ने एक स्वर में आतंकवाद को खरी-खरी सुनाई। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की धरती से चलने वाले आतंकवाद पर लगाम लगाना जरूरी है। राष्ट्रपति ट्रंप ने प्रधानमंत्री मोदी और दोनों देशों के मजबूत रिश्तों का जिक्र किया। ट्रंप ने कहा कि वह भारत के इस दौरे को कभी नहीं भूलेंगे, साथ ही उन्होंने शानदार स्वागत के लिए भारतीयों को धन्यवाद कहा।
नई दिल्ली 25 फरवरी (वा)
भारत एवं अमेरिका ने आज यहां अपने संबंधों को नई ऊंचाई पर ले जाने और समग्र वैश्विक रणनीतिक साझेदारी स्थापित करने का ऐलान किया और रक्षा आपूर्ति श्रृंखला में आदान-प्रदान बढ़ाने तथा तस्करी, आतंकवाद एवं संगठित अपराध से निपटने के लिए नई प्रणाली स्थापित करने का फैसला किया है।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बीच यहां हैदराबाद हाउस में हुई शिखर बैठक में ये घोषणा की गई। श्री मोदी ने अपने प्रेस वक्तव्य में कहा कि मोटेरा में कल आयोजित कार्यक्रम में श्री ट्रंप का स्वागत अभूतपूर्व एवं ऐतिहासिक रहा है, जो हमेशा याद रहेगा। इससे पता चलता है कि भारत एवं अमेरिका के संबंध सरकारों तक सीमित नहीं हैं, बल्कि जनता द्वारा संचालित और जनकेन्द्रित हैं। उन्होंने कहा कि हमारी साझेदारी 21वीं सदी की सबसे महत्वपूर्ण साझेदारी है, जिसे आज हमने समग्र वैश्विक रणनीतिक साझेदारी के स्तर तक ले जाने की सहमति जताई है। प्रधानमंत्री ने कहा कि दोनों नेताओं के बीच आज इस समग्र वैश्विक रणनीतिक साझेदारी के हर पहलू पर बात हुई है। रक्षा एवं सुरक्षा, रणनीतिक ऊर्जा सुरक्षा, प्रौद्योगिकी सहयोग, वैश्विक सहयोग, व्यापार संबंधी तथा जनता से जुड़े सभी मुद्दों पर बात हुई है। हम अत्याधुनिक रक्षा उपकरणों को हासिल करने की दिशा में आगे बढ़े हैं। रक्षा उत्पादन क्षेत्र में आदान-प्रदान बढ़ाने और एक-दूसरे की रक्षा आपूर्ति श्रृंखला में भागीदारी का फैसला किया है।