कश्मीर का केसर दुनिया में बढ़ाएगा मान
   Date28-Dec-2020

az4_1  H x W: 0
वर्ष 2020 की आखिरी मन की बात : प्रधानमंत्री मोदी बोले-
नई दिल्ली द्य 27 दिसम्बर (वा)
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि जम्मू-कश्मीर का केसर वहां की समृद्ध विरासत का प्रतीक है और आत्मनिर्भर भारत के तहत इसे विश्व स्तर पर पहुंचाने का जो प्रयास हो रहा है, उससे दुनिया में भारत का मान बढ़ेगा। श्री मोदी ने रविवार को रेडियो पर प्रसारित अपने मासिक कार्यक्रम में वर्ष 2020 की आखिरी मन की बात की।
उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर के केसर की जो विशेषता है, उसके कारण इससे इसी साल मई में ज्योग्राफिकल इंडिकेशन टैग यानी जीआई टैग सर्टिफिकेट मिला है। इससे हमारे केसर को वैश्विक स्तर पर नई पहचान मिलेगी और कश्मीर के केसर का बाजार बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि जीआई टैग मिलने के बाद जम्मू-कश्मीर के केसर को दुबई की एक सुपर मार्केट में लॉन्च किया है। इससे अब इसका निर्यात बढऩे लगेगा और हमारे आत्मनिर्भर भारत बनाने के प्रयासों को भी मजबूती मिलेगी। प्रधानमंत्री ने कहा कि कश्मीर का केसर वैश्विक स्तर पर मसाले के रूप में प्रसिद्ध है और यह कई औषधीय गुणों से भरपूर तथा अत्यंत सुगंधित है। इसका रंग गाढ़ा होता है और धागे लंबे तथा मोटे होते हैं। विश्व स्तर पर इसे पहचान मिलने से कश्मीर के किसानों में अपनी इस समृद्ध परंपरा से खुशहाली आएगी।
मंदिरों के जीर्णोद्धार में जुटे युवा-एक युवा ब्रिगेड ने कर्नाटक में स्थित श्रीरंगपट्टनम के पास वीरभद्र स्वामी के एक प्राचीन शिव मंदिर का कायाकल्प कर दिया। यहां हर तरफ घास-फूस और झाडिय़ां थीं कि लोगों को मंदिर दिखता तक नहीं था। युवाओं की लगन देखकर स्थानीय भी मदद के लिए आगे आए। वीकेंड्स में युवाओं ने काम किया और मंदिर के पुराने वैभव को लौटा लाए।
स्वदेशी की मांग बढ़ी-देश में आए संकटों का हमने हिम्मत से सामना किया है। दिल्ली के अभिनव को बच्चों को गिफ्ट देने थे। वे झंडेवालान बाजार गए। अभिनव बताते हैं कि वहां दुकानदार यह बोलकर सामान बेच रहे हैं कि ये खिलौने मेड इन इंडिया हैं। लोग भी भारत में बने खिलौनों को पसंद कर रहे हैं। यह बदलाव एक साल में हुआ है। इस पैमाने को अर्थशास्त्री भी नहीं तौल सकते।
तेंदुओं की संख्या में ऐतिहासिक बढ़ोतरी-भारत में लेपर्ड्स यानी तेंदुओं की संख्या में 2014 से 2018 के बीच 60 प्र. से ज्यादा की बढ़ोतरी हुई। 2014 में देश में संख्या करीब 7,900 थी, वहीं 2019 में बढ़कर 12,852 हो गई। लेपर्ड्स के बारे में जिम कार्बेट ने कहा था- 'जिन्होंने ने तेंदुए स्वछंद रूप से घूमते नहीं देखा, वे उसकी खूबसूरती की बयां ही नहीं कर सकते।Ó तेंदुए की सबसे ज्यादा आबादी वाले राज्यों में मध्यप्रदेश, कर्नाटक और महाराष्ट्र हैं।