रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए रामबाण है योग-शिवराज
   Date09-Nov-2020

tg7_1  H x W: 0
भोपाल ठ्ठ 8 नवंबर (वा)
मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा है कि रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में योग रामबाण है। कोरोना संकटकाल में पूरे विश्व को इसकी आवश्यकता है। हमें योग का अधिक से अधिक प्रचार-प्रसार कर पीडि़त मानवता को इस भीषण संकट से बचाना है। मध्यप्रदेश में कोरोना पूरी तरह नियंत्रण में है। दोबारा कोरोना की लहर न आए, इसके लिए हमें योग और आयुर्वेद को अपनाना होगा।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा है कि नई शिक्षा नीति में योग शिक्षा को अनिवार्य किया गया है। मध्यप्रदेश के हर विद्यालय में योग का प्रशिक्षण दिया जाएगा। योग को हमारी दिनचर्या का नियमित हिस्सा बनाने की जरूरत है। मैं स्वयं प्रतिदिन प्रात: 5 तरह के प्राणायाम करता हूं। इसी का परिणाम है कि मैं कोरोनाग्रस्त होने के बाद भी निरंतर कार्य करता रहा। मुझे कोरोना का कोई दुष्परिणाम नहीं झेलना पड़ा।
मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान भारतीय योग परिषद के मध्यप्रदेश चैप्टर द्वारा आयोजित एक दिवसीय वेबिनार का शुभारंभ कर रहे थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के मुख्य केन्द्रीय प्रभारी तथा हरियाणा योग परिषद के अध्यक्ष डॉ. जयदीप आर्य ने की। वेबिनार में योग विशेषज्ञ प्रो. अरुण दिवाकर वाजपेयी, डॉ. ईश्वर वी. बासवरदी, प्रो. ईश्वर भारद्वाज, डॉ. लक्ष्मीनारायण जोशी आदि उपस्थित थे। वेबिनार का संचालन परिषद के मध्यप्रदेश चैप्टर की अध्यक्ष डॉ. पुष्पांजलि शर्मा ने किया। माँ सरस्वती वंदना उपरांत वेबिनार का विधिवत शुभारंभ मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान द्वारा गायत्री मंत्र 'ऊँ भूर्भव: स्व:Ó के साथ किया गया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अपने वक्तव्य का समापन सनातन धर्म के सर्वकल्याण मंत्र 'सर्वे भवंतु सुखिन:Ó के साथ किया।
मैं बच्चों को योग सिखाता था-मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि पहले मैं स्वयं बच्चों को योग सिखाया करता था। अब समय मिलने पर पुन: बच्चों को योग सिखाऊंगा। योग में मेरी गहरी रुचि है।
वेबिनार के निष्कर्षों को अपनाएंगे-मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि वेबिनार में आए योग विशेषज्ञों द्वारा विचार मंथन के उपरांत जो निष्कर्ष निकलेंगे, उन्हें मध्यप्रदेश में अपनाकर योग का अधिक से अधिक प्रचार-प्रसार किया जाएगा।