ताकत से नहीं, बल्कि कार्यों से दुनिया का नेतृत्व करेगा अमेरिका
   Date09-Nov-2020

tg2_1  H x W: 0
डेलावेयर के विलमिंग्टन में जो बाइडेन ने समर्थकों को संबोधित किया
वाशिंगटन ठ्ठ 8 नवंबर (वा)
अमेरिका में राष्ट्रपति पद का चुनाव जीतने वाले डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडेन ने कहा कि एक वैश्विक नेता के तौर पर अमेरिका की पहचान उसकी ताकत के रूप में नहीं, बल्कि उसके कार्यों से होनी चाहिए।
श्री बाइडेन ने चुनाव परिणाम आने के बाद डेलावेयर के विलमिंग्टन में अपने समर्थकों को संबोधित करते हुए यह बात कही। श्री बाइडेन ने कहा- आज रात पूरी दुनिया अमेरिका की ओर देख रही है। मैं मानता हूं कि अमेरिका पूरी दुनिया के लिए प्रकाश का एक स्तंभ है। हम सभी लोगों का नेतृत्व करेंगे, लेकिन ताकत के बल पर नहीं, बल्कि अपने कार्यों से प्रस्तुत किए गए उदाहरणों के बल पर। डेमोक्रेटिक नेता बाइडेन ने कहा कि वह राष्ट्रपति के रूप में अमेरिका के लोगों का आत्मविश्वास दोबारा लौटाने का प्रयास करेंगे। उन्होंने कहा- मैं चाहता हूं कि राष्ट्रपति कार्यालय अमेरिका की आत्मा को पुन:स्थापित करने का काम करे। इस देश की रीढ़ की हड्डी माने जाने वाले मध्यम वर्ग को मजबूत करना और दुनियाभर में अमेरिका के सम्मान को लौटाना हमारा लक्ष्य होगा। श्री बाइडेन ने कहा- मैं जीत के बाद अमेरिका के प्रांतों को लाल अथवा नीले रंग के रूप में नहीं देखूंगा। मैं सभी प्रांतों को केवल संयुक्त राज्य अमेरिका के नजरिए से ही देखूंगा। मैं दिल से प्रयास करूंगा कि आप सबका विश्वास जीत सकूं। दरअसल, अमेरिकी चुनाव में रिपब्लिकन प्रभाव वाले प्रांतों को लाल रंग और डेमोक्रेट समर्थक प्रांतों को नीले रंग में दिखाया गया था।
नफरत खत्म कीजिए, आगे बढि़ए-ट्रंप और उनके समर्थकों से बाइडेन ने कहा- मैं जानता हूं कि जिन लोगों ने ट्रंप को वोट दिया है, वे आज निराश होंगे। मैं भी कई बार हारा हूं, यही लोकतंत्र की खूबसूरती है कि इसमें सबको मौका मिलता है। चलिए, नफरत खत्म कीजिए। एक-दूसरे की बात सुनिए और आगे बढि़ए। विरोधियों को दुश्मन समझना बंद कीजिए, क्योंकि हम सब अमेरिकी हैं। बाइबल हमें सिखाती है कि हर चीज का एक वक्त होता है। अब जख्मों का भरने का वक्त है। सबसे पहले कोविड-19 को कंट्रोल करना होगा, फिर इकोनॉमी और देश को रास्ते पर लाना होगा।