सर्वश्रेष्ठ उपहार
   Date06-Nov-2020

prernadeep_1  H
प्रेरणादीप
ए क अपंग बच्चे को सामने आया देखकर दयाभाव दिखाते हुए एक सज्जन ने एक डॉलर का सिक्का उसके हाथ में रखा और कहा - 'जाओ बेटे! कुछ खाकर अपनी भूख मिटा लो।Ó सिक्का लौटाते हुए बच्चे ने स्वाभिमानपूर्वक कहा- 'साहब! मैं भीख माँगने नहीं आया। आपसे विनय करने आया हूँ कि मुझे किसी स्कूल में भर्ती करा दो, जहाँ मैं पढ़ सकूँ।Ó उन सज्जन ने बच्चे की बातों से प्रभावित होकर उसे एक स्कूल में दाखिल करा दिया। दोनों पाँवों से अपंग यह लड़का ही एक दिन कुशल हवाबाज सैंडर्स के नाम से विख्यात हुआ। वस्तुत: जिन्हें भी अशिक्षितों से, असहायों से कोई सहानुभूति है, उन्हें अपनी कृपा धनराशि के रूप में जुटाने के स्थान पर उन्हें स्वावलंबन प्रधान शिक्षा देनी चाहिए। यह उनका सहायता पाने वाले के लिए सर्वश्रेष्ठ उपहार है।