फारुख व उमर अब्दुल्ला ने सरकारी जमीन पर बनाया घर
   Date25-Nov-2020

aw5_1  H x W: 0
जम्मू ठ्ठ 24 नवंबर (वा) जम्मू-कश्मीर के प्रशासन ने पूर्व मुख्यमंत्री फारुख अब्दुल्ला और उमर अब्दुल्ला का नाम एक सूची में शामिल कर आरोप लगाया है कि जम्मू में उनका रिहायशी आवास गैरकानूनी तरीके से हासिल भूमि पर बनाया गया।
इसके अलावा नेशनल कॉन्फ्रेंस के जम्मू और श्रीनगर स्थित मुख्यालयों को भी रोशनी कानून के तहत वैध बनाया गया है। फारुख और उमर दोनों ने इन आरोपों से इनकार किया है। जम्मू-कश्मीर उच्च न्यायालय के आदेश के बाद केंद्रशासित क्षेत्र के प्रशासन ने विवादित रोशनी भूमि योजना के तहत जमीन हासिल करने वालों की सूची सार्वजनिक की है। नई सूची पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए नेशनल कॉन्फ्रेंस के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला ने कहा- सूत्रों के आधार पर खबर आई है कि डॉ. फारुख अब्दुल्ला रोशनी कानून के लाभार्थी हैं। यह बिल्कुल झूठी खबर है और गलत मंशा से इस खबर का प्रसार किया जा रहा। जम्मू और श्रीनगर में बने उनके मकानों का उक्त कानून से कोई लेना-देना नहीं है।