आतंकवाद विश्व की बड़ी समस्या मददगार देशों को ठहराया जाए दोषी
   Date18-Nov-2020

as1_1  H x W: 0
नई दिल्ली द्य 17 नवंबर (वा)
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को ब्रिक्स सम्मेलन को संबोधित किया। श्री मोदी ने इस दौरान आतंकवाद को दुनिया की सबसे बड़ी समस्या बताते हुए नाम लिए बिना पाकिस्तान पर निशाना साधा। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आतंकवाद आज विश्व के सामने सबसे बड़ी समस्या है। हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि आतंकवादियों को समर्थन और सहायता देने वाले देशों को भी दोषी ठहराया जाए, और इस समस्या का संगठित तरीके से मुकाबला किया जाए। मोदी ने अपने संबोधन में आतंकवाद, कोरोना महामारी और आत्मनिर्भर भारत समेत कई मुद्दों पर बात रखी और कहा कि हमारी क्षमताएं पूरे विश्व की भलाई के काम आ सकती है।
प्रधानमंत्री मोदी ने चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग से सप्ताह में दूसरी बार वर्चुअल मंच साझा किया। ब्राजील, रूस, भारत, चीन और साउथ अफ्रीका (ब्रिक्स) के नेताओं ने कोविड-19 महामारी के बीच इकॉनामिक रिकवरी पर चर्चा की। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के आमंत्रण पर प्रधानमंत्री
मोदी 'ग्लोबल स्टैबिलिटी, शेयर्ड सिक्योरिटी एंड इनोवेटिव ग्रोथÓ थीम पर आयोजित वर्चुअल ब्रिक्स सम्मेलन में शामिल हुए। आत्मनिर्भर भारत अभियान की बात करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हमने 'आत्मनिर्भर भारतÓ अभियान के तहत अपने देश में एक व्यापक सुधार प्रक्रिया शुरू की है। हमारा यह अभियान इस विश्वास पर आधारित है कि भारत वैश्विक वैल्यू चेन में महत्वपूर्ण योगदान दे सकता है। उन्होंने कहा कि आत्मनिर्भर भारत अभियान इस भरोसे पर आधारित है कि कोविड-19 के बाद स्वयं पर निर्भर हो चुका भारत वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिए बहुत अहम भूमिका निभा सकता है और अन्य देशों की अर्थव्यवस्था को भी बेहतर बनाने में मदद कर सकता है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि साल 2021 में ब्रिक्स के 15 वर्ष पूरे हो जाएंगे। पिछले सालों में हमारे विभिन्न निर्णयों का मूल्यांकर करने के लिए हमारे शेरपा एक रिपोर्ट बना सकते हैं।
कोविड वैक्सीन को लेकर पूरी मानवता के काम आएंगी हमारी क्षमताएं - भारत की क्षमताओं को लेकर प्रधानमंत्री ने कहा कि इसका उदाहरण पूरी दुनिया ने कोविड-19 के दौरान देखा था, जब भारतीय फार्मा उद्योग की क्षमताओं के कारण ही 150 से अधिक देशों तक हम आवश्यक दवाइयां पहुंचा पाए थे। हमारी वैक्सीन उत्पादन और डिलिवरी क्षमता भी ऐसे ही मानवता के काम आएगी।