खाद्य वस्तुओं में मिलावट मानव जिन्दगी के लिए घातक
   Date12-Nov-2020

qa2_1  H x W: 0
भोपाल ठ्ठ 11 नवंबर (वा)
मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा है कि आम नागरिकों द्वारा उपयोग में लाई जाने वाली वस्तुओं में मिलावट न सिर्फ स्वास्थ्य के लिए घातक है बल्कि मानव समाज के विरूद्ध बड़ा अपराध भी है। ऐसे मिलावटखोरों के विरूद्ध सख्त से सख्त कार्रवाई की जाना चाहिए। श्री चौहान ने आज मंत्रालय में बताया कि प्रदेश में आम नागरिकों के सहयोग से मिलावट से मुक्ति अभियान प्रारंभ किया जा रहा है। मिलावट के संबंध में उन्होंने कहा कि प्रमाणिक जानकारी देने वाले व्यक्तियों के नाम उजागर नहीं किए जाएंगे और इस दंश को समाप्त करने के पूरे प्रयास होंगे। उन्होंने मंत्रालय परिसर से प्रदेश के संभागों के लिए स्वास्थ्य विभाग की अगुवाई में 9 चलित प्रयोगशाला वाहनों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। अत्याधुनिक उपकरणों से लैस इन वातानुकूलित वाहनों में मिल्क स्कैनर, पी.एच. मीटर, रेफ्रेक्टोमीटर, टी.पी.आर. मीटर, पैथौजिन किट के साथ-साथ बैलेंस, मिक्सर ग्राइंडर, हॉट एयर ओवन, गैस सिलेंडर और कम्प्यूटर प्रिंटर उपलब्ध हैं। इन उपकरणों की मदद से यूरिया, डिटर्जेंट, पीने के पानी, शक्कर, खाद्य तेल और दैनिक उपयोग की वस्तुओं जैसे मावा, पनीर, दूध, मिर्च-मसाले आदि का प्रारंभिक परीक्षण कर मौके पर रिपोर्ट दी जा सकेगी। इन वाहनों में टेलीविजन और लाउडस्पीकर भी स्थापित किए गए हैं, जो भ्रमण कर खाद्य पदार्थों में होने वाली मिलावट और उसके त्वरित परीक्षण की व्यवस्था के बारे में आमजन को जागरूक करने का माध्यम बनेंगे। यह आधुनिक प्रयोगशालाएं कुल 102 प्रकार के प्रारंभिक परीक्षण में सक्षम हैं।