आत्मनिर्भर भारत देगा वैश्विक अर्थव्यवस्था को गति
   Date11-Nov-2020

qw2_1  H x W: 0
एससीओ की शिखर बैठक में बोले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी
नई दिल्ली ठ्ठ 10 नवंबर (वा)
भारत ने कोविड-19 महामारी से हुए आर्थिक नुकसान के संकट से निपटने के लिए 'आर्थिक बहुपक्षवादÓ और 'राष्ट्रीय क्षमता निर्माणÓ का मंत्र देते हुए आज कहा कि इसी मार्ग पर चलते हुए 'आत्मनिर्भर भारतÓ वैश्विक अर्थव्यवस्था की प्रगति को गति प्रदान करेगा।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की शिखर बैठक को संबोधित करते हुए कहा- भारत का दृढ़ विश्वास है कि 'आर्थिक बहुपक्षवादÓ और 'राष्ट्रीय क्षमता निर्माणÓ के संयोग से एससीओ देश महामारी से हुए आर्थिक नुकसान के संकट से उभर सकते हैं। हम महामारी के बाद के विश्व में 'आत्मनिर्भर भारतÓ की दृष्टि के साथ आगे बढ़ रहे हैं। मुझे विश्वास है कि 'आत्मनिर्भर भारतÓ वैश्विक अर्थव्यवस्था के कई गुणा बल प्रदान करने वाला साबित होगा और एससीओ क्षेत्र की आर्थिक प्रगति को गति प्रदान करेगा। श्री मोदी ने अपने संबोधन में संयुक्त राष्ट्र के सुझावों पर भी बल दिया और एससीओ से इसके लिए समर्थन की अपील की। उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र ने अपने 75 साल पूरे किए हैं, लेकिन अनेक सफलताओं के बाद भी संयुक्त राष्ट्र का मूल लक्ष्य अभी अधूरा है। महामारी की आर्थिक और सामाजिक पीड़ा से जूझ रहे विश्व की अपेक्षा है कि इस वैश्विक निकाय की व्यवस्था में आमूलचूल परिवर्तन आए।