वाराणसी में 620 करोड़ रु. की 30 योजनाओं का किया शुभारंभ
   Date10-Nov-2020

we1_1  H x W: 0
प्रधानमंत्री ने दिया दीपावली का उपहार
वााणसी ठ्ठ 9 नवंबर (वा)
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी को अरबों रुपए की विकास परियोजनाओं का 'दीपावली उपहारÓ दिया तथा कहा कि गत छह वर्षों के उनके कार्यकाल में यहां शहर एवं आसपास के क्षेत्रों हुए चौतरफा विकास के कारण संभावनाओं के नए रास्ते खुले हैं।
श्री मोदी नई दिल्ली से वर्चुअल माध्यम से करीब 620 करोड़ रुपए की विभिन्न क्षेत्रों से जुड़ी 30 योजनाओं का उद्घाटन एवं शिलान्यास के बाद कहा कि इससे चौतरफा विकास के रास्ते खुल गए हैं। उन्होंने कहा कि सड़क, हवाई एवं जल मार्गों के अलावा बिजली और स्वास्थ्य जैसी लोगों की बुनियादी ज़रूरतों को पूरा करने से लेकर पर्यटन एवं उद्योगों के विकास पर जोर दिया गया है। इस वजह से वाराणसी पूर्वांचल ही नहीं,पूर्वी भारत का एक प्रमुख केंद्र के रूप में उभरा है। स्वास्थ्य क्षेत्र की सुविधाओं खासकर, कैंसर जैसी जानवेला बीमारियों के इलाज की सुविधाओं के कारण वाराणसी स्वास्थ्य सेवाओं का 'हबÓ बन गया है। अब लोगों को इसके इलाज के लिए दिल्ली या मुंबई नहीं जाना पड़ता है। उन्हें महामना कैंसर इंस्टीट्यूट या होमी भाभा कैंसर संस्थान में इलाज की सुविधा उपलब्ध हो रही है। श्री मोदी ने भगवान बुद्ध की प्रथम उपदेश स्थली सारनाथ में 'लाइट एंड
साउंड शोÓ,संपूर्णनंद स्टेडियम में सुविधाओं के अलावा कृषि एवं सड़क समेत करीब 220 करोड़ रुपए की 16 विकास परियोजनाओं का लोकार्पण किया। उन्होंने खिड़किया घाट का विकास, बेनिया बाग में पार्किंग स्थल, दशाश्वमेध घाट पर्यटन विकास से जुड़ी करीब 400 करोड़ रुपए की 14 विकास परियोजनाओं का शिलान्यास किया। प्रधानमंत्री ने बास्केटबॉल की अंतर्राष्ट्रीय स्तर की खिलाड़ी प्रशांति सिंह, गृहिणी निलिमा मेहता एवं व्यवसायी विपिन कुमार अग्रवाल से वीडियो कॉफ्रेंसिंग के जरिये संवाद कर वाराणसी के विकास कार्यों के बारे में जानकारी ली। सारनाथ में हिन्दी फिल्मों के महानायक अमिताभ बच्चन की आवाज में इलेक्ट्रॉनिक माध्यम भगवान बुद्ध के संदेश सुनने को मिलेगा। यहां एक साथ 200 दर्शकों को दिखाने की व्यवस्था की गई है। इस परियोजना पर सात करोड़ 33 लाख 66 हजार रुपए की लागत आई। इस महत्वाकांक्षी परियोजना पर वर्ष 2016 लोक निर्माण विभाग ने काम शुरू किया था। इस परियोजना से वाराणसी में पर्यटकों का आकर्षण और बढऩे एवं पर्यटन उद्योग को बढ़ावा मिलने की संभावना है।