जब तक दवाई नहीं, तब तक ढिलाई नहीं
   Date21-Oct-2020

dd1_1  H x W: 0
प्रधानमंत्री का कोरोना संकट पर ७वां राष्ट्र संबोधन : रामचरित मानस का उल्लेख कर चेताया
नई दिल्ली द्य 20 अक्टूबर
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को देश के नाम संबोधन में तालाबंदी, कोरोना वैक्सीन, अमेरिका-यूरोप में वायरस के मामले फिर से ज्यादा आने के बारे में बात की। प्रधानमंत्री का यह कोरोना संकट पर सातवां संबोधन था।
प्रधानमंत्री मोदी ने अपने इस संबोधन में कहा कोरोना की वैक्सीन जब भी आएगी यह देश के सभी नागरिकों तक जल्दी से पहुंचे इसके लिए सरकार काम कर रही है। रामचरित मानस में बहुत ही शिक्षाप्रद बात है, साथ ही अनेक प्रकार की चेतावनियां भी हैं। जैसे- रिपु रुज पावक पाप प्रभु अहि गनिअ न छोट करि यानी आग, शत्रु, पाप यानी गलती और बीमारी इन्हें कभी छोटा नहीं समझना नहीं चाहिए। जब तक पूरा इलाज ना हो इन्हें छोटा नहीं समझना चाहिए। यानी जब तक दवाई नहीं दब तक ढिलाई नहीं।