शौर्यचक्र विजेता बलविंदर सिंह की गोली मारकर हत्या
   Date17-Oct-2020

sx6_1  H x W: 0
अमृतसर द्य 16 अक्टूबर (वा)
पंजाब में आतंकवाद दौर में आतंकवादियों का बहादुरी से सामना करने वाले शौर्यचक्र विजेता बलविंदर सिंह भिखीविंड की शुक्रवार को तरनतारन के भिखीविंड में स्थित उनके निवास पर कुछ अज्ञात लोगों ने गोली मारकर हत्या कर दी।
श्री सिंह की पत्नी जगदीप कौर ने बताया कि सुबह करीब 7.00 बजे हुई कुछ अज्ञात लोग उसके घर में घुसे और बलविंदर सिंह पर गोलियां चलाना शुरू कर दिया, जिससे उनकी मौत हो गई। श्री सिंह के भाई रंजीत सिंह ने दावा किया है कि हमले के पीछे आतंकवादी हो सकते हैं, हालांकि पुलिस ने अभी पक्के तौर पर ऐसा कुछ नहीं कहा है। मौके पर पहुंची पुलिस और प्रशासन के अधिकारी आवश्यक जांच कर रहे हैं। आरएमपीआई की जिला कमेटी के सदस्य और कामरेड हरकिशन सिंह सुरजीत के साथी रह चुके कामरेड बलविंदर पंजाब में बहादुरी के साथ आतंकवादियों का मुकाबला करने के लिए कामरेड बलविंदर सिंह
भिखीविंड तथा उनके पूरे परिवार को साल 1993 में राष्ट्रपति शंकरदयाल शर्मा द्वारा शौर्यचक्र से सम्मानित किया था। उनके साथ उनकी पत्नी जगदीप कौर, भाई रणजीत सिंह और भुपिंदर सिंह को भी शौर्यचक्र और शाल देकर सम्मानित किया गया था। उनके परिवार के सदस्यों को संदेह है कि उनकी हत्या के पीछे आतंकवादी हो सकते हैं। राज्य में आतंकवाद के दौरान बलविंदर सिंह का आतंकवादियों के साथ 13 बार मुकाबला हुआ था। उन्होंने तथा उनके परिवार ने बड़ी बहादुरी से आतंकवादियों को परास्त किया था। उनकी बहादुरी को देखते हुए राष्ट्रपति ने उन्हे शौर्यचक्र से सम्मानित किया था।