कोरोनाकाल में अभिनव नवाचारों के साथ शिक्षा के क्षेत्र में हुआ कार्य- शिवराज
   Date14-Oct-2020

sd7_1  H x W: 0
भोपाल द्य 13 अक्टूबर (वा)
मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि शैक्षणिक वातावरण बेहतर बनाने के लिए स्कूल भवनों का होना जरूरी है। स्कूल भवनों में बच्चों को अच्छी शिक्षा मिले, यह हमारे प्रयास हैं। कोरोनाकाल में शैक्षणिक गतिविधियां प्रभावित हुई हैं, लेकिन सरकार ने वैकल्पिक व्यवस्था के साथ अभिनव नवाचार करते हुए ऑनलाइन बच्चों को शिक्षा से जोडऩे का कार्य किया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आज भोपाल के मिंटो हॉल में 497 करोड़ 70 लाख रुपए की लागत से नवनिर्मित 145 शैक्षणिक भवनों का वर्चुअल लोकार्पण कर कार्यक्रम को संबोधित किया।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आज जिन शैक्षणिक भवनों का लोकार्पण किया, उनमें आदिम जाति कल्याण विभाग के 357 करोड़ 9 लाख रुपए लागत के 13 विशिष्ट आवासीय विद्यालयों (कन्या शिक्षा परिसर), 4 करोड़ 63 लाख रुपए के 3 छात्रावास के नवीन भवनों और स्कूल शिक्षा विभाग के 135 करोड़ 98 लाख रुपए लागत के 129 हाईस्कूल एवं हायर सेकंडरी शाला भवन शामिल हैं। इन भवनों का निर्माण आदिम जाति कल्याण विभाग एवं स्कूल शिक्षा विभाग के लिए लोक निर्माण विभाग द्वारा किया गया। लोकार्पण कार्यक्रम में लोकार्पित हुई सभी शैक्षणिक अधोसंरचनाएं चुनाव अप्रभावित जिलों की हैं। लोक निर्माण एवं कुटीर ग्रामोद्योग मंत्री गोपाल भार्गव, सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री ओमप्रकाश सकलेचा, स्कूल शिक्षा राज्यमंत्री, स्वतंत्र प्रभार इंदरसिंह परमार उपस्थित थे। प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा एवं आदिम जाति कल्याण एवं अनुसूचित जाति कल्याण सुश्री मीना सिंह वर्चुअल रूप में कार्यक्रम में शामिल हुई। प्रमुख सचिव शिक्षा, प्रमुख सचिव स्कूल आदिम जाति कल्याण, प्रमुख सचिव लोक निर्माण विभाग एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे।