बातचीत से शीघ्र टकराव के मुद्दों का समाधान खोजने पर दोनों देश सहमत
   Date14-Oct-2020

sd2_1  H x W: 0
नई दिल्ली द्य 13 अक्टूबर (वा)
भारत और चीन ने वास्तविक नियंत्रण रेखा पर पिछले पांच महीने से चले आ रहे सैन्य गतिरोध को दूर करने के लिए बातचीत के जरिए सैनिकों को पीछे हटाने सहित टकराव के सभी मुद्दों का जल्द से जल्द सर्वसम्मत समाधान खोजने पर सहमति जताई है।
भारत और चीन के सैन्य कमांडरों के बीच सोमवार देर रात्रि को सातवें दौर की बातचीत के बाद जारी संयुक्त वक्तव्य में इस बात पर भी जोर दिया गया है कि दोनों सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति और मैत्रीपूर्ण माहौल बनाएंगे तथा मतभेदों को विवादों में नहीं बदलने देंगे। भारतीय सीमा के चुशूल क्षेत्र में सोमवार को करीब बारह बजे शुरू हुई बैठक में सेना का प्रतिनिधित्व 14वीं कोर के प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह ने किया। उनके साथ लेफ्टिनेंट जनरल पीजीके मेनन भी थे, जिन्होंने आज ही इस कोर के प्रमुख की जिम्मेदारी संभाली है। उन्हें ले. जनरल सिंह के स्थान पर यह जिम्मेदारी सौंपी गई है। ले. जनरल सिंह को सैन्य अकादमी देहरादून की कमान सौंपी गई है। इन दोनों के साथ विदेश मंत्रालय के संयुक्त सचिव स्तर के एक अधिकारी भी बातचीत के दौरान मौजूद थे। दोनों पक्षों के बीच गत 21 सितम्बर को हुई छठे दौर की बातचीत में भी ले. जनरल सिंह तथा विदेश मंत्रालय के अधिकारी मौजूद थे। वक्तव्य में कहा गया है कि दोनों पक्षों के बीच जारी सैन्य गतिरोध को दूर करने के लिए वास्तविक नियंत्रण रेखा के साथ-साथ तैनात सैनिकों को हटाने के मुद्दे पर गंभीरता से व्यापक और रचनात्मक बातचीत हुई। दोनों
पक्षों ने अपनी-अपनी बात रखी और उनका कहना है कि बातचीत सकारात्मक, रचनात्मक रही और दोनों ने एक-दूसरे के रुख को अच्छी तरह से समझा है। वक्तव्य में कहा गया है कि भारत और चीन दोनों ने ही इस बात पर सहमति जताई है कि वे सैनिकों को पीछे हटाने के मुद्दे का जल्द से जल्द सर्वसम्मत समाधान निकालने के लिए सैन्य और राजनयिक स्तर पर संवाद तथा संपर्क बनाए रखेंगे। दोनों पक्ष इस बात पर भी सहमत हुए हैं कि वे दोनों देशों के नेताओं के बीच बनी महत्वपूर्ण समझ पर आधारित बातों को लागू करेंगे, मतभेदों को विवादों में नहीं बदलने देंगे और सीमा पर शांति तथा मैत्रीपूर्ण माहौल के लिए मिलकर काम करेंगे।