ठंड में बढ़ सकते हैं कोरोना वायरस के मामले
   Date12-Oct-2020

df3_1  H x W: 0
डॉ. हर्षवर्धन का संडे संवाद : त्योहारों के दौरान लापरवाही हुई तो कोरोना फिर हो जाएगा सक्रिय
नई दिल्ली द्य 11 अक्टूबर (वा)
पिछले कुछ महीनों से देश में कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। इस बीच, कुछ ऐसी रिपोर्ट्स भी सामने आईं, जिसमें दावा किया गया कि ठंड के मौसम में कोरोना वायरस के मामलों में वृद्धि हो सकती है। इन आशंकाओं पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने बयान दिया है। उन्होंने रविवार को कहा कि भारत में भी ऐसी आशंकाओं से इनकार नहीं किया जा सकता है।
डॉ. हर्षवर्धन ने रविवार को आयोजित होने वाले सोशल मीडिया इंटरेक्शन कार्यक्रम 'संडे संवादÓ में कहा कि स््रक्रस् ष्टश1 2 एक रेस्पिरेट्री वायरस है और ऐसे वायरस को ठंड के मौसम में बढऩे के लिए जाना जाता है। रेस्पिरेट्री वायरस ठंड के मौसम और कम आर्द्रता की स्थिति में बेहतर तरीके से पनपते हैं। एक और तथ्य है, जिसे ध्यान में रखना आवश्यक है। सर्दियों के दौरान, आवासीय आवासों में भीड़भाड़ होती है। इससे मामले बढ़ सकते हैं... इसलिए भारतीय संदर्भ में, यह मानना गलत नहीं होगा कि सर्दियों के मौसम में मामलों की संख्या में वृद्धि देखी जा सकती है। मंत्री ने यूरोपीय देशों का भी उदाहरण दिया, जिसमें विशेष तौर पर ब्रिटेन के बारे में बताया, जहां पर ठंड के मौसम में कोरोना वायरस के मामलों में वृद्धि देखी गई थी। उन्होंने इसी के साथ लोगों को आगाह किया कि आप इसे मेरी चेतावनी समझ लें या फिर सलाह, लेकिन अगर त्योहारों के दौरान हमने लापरवाही बरती तो कोरोना फिर से विकराल हो जाएगा। इसलिए मैं कहूंगा कि त्योहारों के दौरान दो गज की दूरी, मास्क है जरूरी का पालन जरूर करें। बाहर जाने के बजाय घर पर रहकर परिवार के साथ त्योहार मनाएं।स्वास्थ्य मंत्री ने कहा- दुनिया का कोई भी धर्म अथवा भगवान यह नहीं कहता कि आप लोगों की जिंदगी खतरे में डालकर त्योहार मनाएं। कोरोना के खिलाफ जंग को जीतने के लिए हमें प्रधानमंत्री मोदी के जन आंदोलन को गंभीरता से लेना होगा। देश और विश्वभर में विकराल ले चुके इस संक्रमण से निपटने के लिए वैक्सीन आने के संबंध में उन्होंने कहा कि देश में कोरोना वैक्सीन पर वैज्ञानिकों की उच्च स्तरीय टीम निरंतर जुटी हुई है।