जेएनयू हिंसा : पुलिस ने 55 लोगों को पहचाना, नहीं मिला सीसीटीवी फुटेज
   Date14-Jan-2020

ed1_1  H x W: 0
नई दिल्ली द्य 13 जनवरी (वा)
जेएनयू हिंसा की जांच कर रहे दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने नकाबपोश हमलावरों में से सात और लोगों की पहचान की है। इन नए लोगों के साथ ही पुलिस अब तक 55 लोगों की पहचान कर चुकी है, जो जांच की जद मे हैं। इन्हें जांच में शामिल होने के लिए नोटिस जारी किया गया है। जांच में जुटी टीम इससे पहले पक्ष रखने के लिए जेएनयू अध्यक्ष को बुला चुकी है, जिन्होंने पुलिस के सामने अपनी बात और शिकायत रखी थी।
वहीं, एक निजी चैनल के स्टिंग ऑपरेशन में शामिल छात्र सहित दो अन्य को भी पुलिस ने जांच के लिए बुलाया है। पुलिस का कहना है कि जो तथ्य हमारे सामने आएंगे, उसे जांच में शामिल किया जाएगा। हालांकि, एसआईटी के वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि अभी जांच प्रारंभिक स्तर पर है, लिहाजा पूछताछ के दायरे में अभी और कई लोग आ सकते हैं।
23 सदस्यों ने मोबाइल बंद किए - शुरुआती नोकझोंक के बाद हिंसा के लिए बनाए गए 'यूनिटी अगेंस्ट लेफ्टÓ व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़े 23 लोगों ने अपने मोबाइल फोन बंद कर लिए हैं।
वहीं, कुछ घटना के बाद ही ग्रुप छोड़ चुके हैं। पुलिस ने सर्वर रूम में तोडफ़ोड़ किए जाने के कारण वहां लगे सीसीटीवी काम नहीं करने की बात कही है। इस कारण पुलिस को मौके से घटना से जुड़ा कोई भी फुटेज हासिल नहीं हो सका है। वहीं, मुख्य द्वार को छोड़ परिसर में कोई कैमरा नहीं है, इस कारण अन्य जगहों की फुटेज भी उपलब्ध नहीं है।