सीएए के खिलाफ विपक्ष में दो फाड़, ६ पार्टियां नदारद
   Date14-Jan-2020

ed2_1  H x W: 0
नई दिल्ली द्य 13 जनवरी
कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की अगुवाई में विपक्षी दलों ने सोमवार को पार्लियामेंट एनेक्सी में बैठक की, ताकि सत्ताधारी भाजपा के खिलाफ नागरिकता कानून, प्रस्तावित सिटीजन रजिस्टर और अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर उसे घेरा जा सके। विपक्षी दलों की इस एकता को उस वक्त बड़ा झटका लगा, जब सोमवार की दोपहर बैठक से छह दलों ने किनारा किया। कांग्रेस की अगुवाई में हुई विपक्षी दलों की बैठक से शिवसेना, आम आदमी पार्टी, तृणमूल कांग्रेस, डीएमके, समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी का कोई भी नुमाइंदा शामिल नहीं हुआ। इस बैठक में एनसीपी, आरजेडी समेत 20 दलों के लोगों ने हिस्सा लिया। बैठक से ठीक पहले बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने इससे दूर रहने का फैसला किया। वहीं, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी उनकी सरकार के खिलाफ राज्य में कांग्रेस और लेफ्ट के कैम्पेन से नाराज हैं। पिछले हफ्ते उन्होंने भी यह साफ कर दिया था कि वे इस बैठक में हिस्सा नहीं ले पाएंगी। लेकिन, कांग्रेस को यह उम्मीद थी कि मायावती की बीएसपी और अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी से जरूर कोई प्रतिनिधि इस बैठक में शामिल होगा। मायावती ने विपक्षी दलों की बैठक में न जाने के फैसले से पहले कई ट्वीट किए। इन ट्वीट्स में मायावती ने कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा कि राजस्थान में गहलोत सरकार को बाहर से समर्थन देने के बावजूद उनके विधायकों को लालच दिया गया।