उत्तर से आ रही बर्फीली हवाएं, मप्रके १० शहरों में पारा ५ डिग्री से नीचे
   Date11-Jan-2020

dc1_1  H x W: 0
भोपाल द्य 10 जनवरी (वा)
हिमाचलप्रदेश और उत्तराखंड में लगातार हो रहे हिमपात की वजह से उत्तर से आ रही सर्द बर्फिली हवाओं के कारण राजधानी भोपाल सहित मध्यप्रदेश के अधिकांश शहर शीतलहर 'कोल्ड डेÓ और कोहरे की गिरफ्त में आ गए हैं। मप्र के सात शहरों में तीव्र ठंडा दिन (सीवियर कोल्ड डे), जबकि १५ शहरों में ठंडा दिन (कोल्ड डे) रहा। इसी के साथ १० शहरों में न्यूनतम पारा ५ डिग्री से नीचे रहा। बर्फ के तीर-सी चुभ रही अत्यंत शीतल हवाओं से भोपाल सहित नौ शहर श्योपुर, सागर, दतिया, शाजापुर, नरसिंहपुर, धार, खरगोन और टीकमगढ़ शीतलहर की चपेट में हैं और यहां हाड़ कंपाने वाली ठंड पड़ रही है। भोपाल में रात का पारा कल की तुलना में एकाएक 4 डिग्री लुढ़ककर 5.5 पर पहुंच गया, जो सामान्य से 5.2 डिग्री कम है। झीलों की इस नगरी में 'कोल्ड डेÓ भी रहा। सबसे कम न्यूनतम तापमान 2.4 डिग्री के साथ बैतूल प्रदेश का सबसे ठंड शहर रहा। यहां पारा सामान्य से 8 डिग्री नीचे गिरा और तीव्र शीतलहर (सीवियर कोल्ड वे) चल रही है। यहां ठंड से बचने के लिए अधिकांश लोग दिनभर घरों में दुबके रहे।
प्रात:काल में दृश्यता मात्र 50 मीटर रही - मौसम विज्ञान केन्द्र भोपाल के वरिष्ठ वैज्ञानिक पीके साहा ने बताया कि भोपाल सुबह कोहरे की चादर भी ओढ़े रहा। यहां प्रात:काल में दृश्यता मात्र 50 मीटर रही। सतना, नौगांव, ग्वालियर, दतिया, शाजापुर, राजगढ़, खजुराहो और टीकमगढ़ में भी कोहरा छाया रहा।
प्रदेश के 30 से अधिक शहरों में रात का तापमान (न्यूनतम तापमान) नौ डिग्री से नीचे रहा है। इनमें बैतूल में 2.4, दतिया 3.6, पचमढ़ी, खरगोन और टीकमगढ़ में 4, धार 4.3, श्योपुर 4.4, रायसेन 4.5, रतलाम 4.8, गुना 5, नौगांव 5.3, भोपाल 5.5, मलाजखंड 5.7, छिंदवाड़ा एवं ग्वालियर 5.8, उमरिया 5.9, दमोह 6, राजगढ, खरगोन, उज्जैन एवं रीवा में 6.2, सागर 6.3, सिवनी 6.4, इंदौर 7.1, खंडवा 7.4 तथा होशंगाबाद एवं जबलपुर में न्यूनतम तापमान 8.5 अंकित हुआ है।
24 घंटों तक तेवर ऐसे ही रहने के आसार - प्रदेश में अगले 24 घंटों के दौरान भी मौसम के तेवर लगभग ऐसे ही रहने के आसार हैं। भोपाल में पारा और लुढ़क सकता है। श्री साहा ने बताया कि एक और पश्चिमी विक्षोभ तैयार हो रहा है। इसकी वजह से अगले दो-तीन दिन में तापमान में पुन: उछाल आएगा तथा 14 जनवरी के आसपास से फिर प्रदेश में कहीं-कहीं बूंदाबांदी और गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ सकती हैं।