जेएनयू हिंसा के खिलाफ निकला नागरिक मार्च लाठीचार्ज में कई छात्र घायल, 50 हिरासत में
   Date10-Jan-2020

ws3_1  H x W: 0
नई दिल्ली 9 जनवरी (वा)।
देश के जाने-माने राजनीतिज्ञों, बुद्धिजीवियों, शिक्षकों और छात्रों ने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में नकाबपोशों द्वारा की गई हिंसक घटना के विरोध में गुरुवार को यहां नागरिक मार्च निकाला और वे जब राष्ट्रपति भवन की ओर से जा रहे थे तो पुलिस ने लाठीचार्ज किया, जिसमें कई छात्र घायल हो गए।
बाद में सुश्री घोष ने कहा कि जब तक कुलपति को हटाया नहीं जाता तब तक उनका आंदोलन जारी रहेगा। इसके बाद वहां बड़ी संख्या में मौजूद छात्र अपनी मांगों को लेकर राष्ट्रपति भवन की ओर बढऩे लगे तो पुलिस ने उन्हें रोकने के लिए लाठीचार्ज किया, जिसमें कई छात्र घायल हो गए। जेएनयू छात्रों को आम्बेडकर भवन के
पास से हिरासत में ले लिया है। नॉर्थ ब्लॉक और साउथ ब्लॉक के बाहर भारी पुलिस कर्मी तैनात कर दिए गए और चारों तरफ जाम लग गया। इसके अलावा पुलिस ने 50 से अधिक छात्रों को हिरासत में ले लिया। शास्त्री भवन के सामने बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी फौरन आ गए और उन्होंने बैरिकेड लगाकर रास्ते को रोक दिया, ताकि छात्र राष्ट्रपति भवन की ओर बढ़ नहीं सकें।
$कुलपति जगदीशकुमार को बर्खास्त करने की मांग-मार्च में शामिल लोग कुलपति एम. जगदीश कुमार को बर्खास्त करने तथा छात्रों के विरुद्ध से एफआईआर हटाने के साथ ही सरकार से पूरी घटना की निष्पक्ष न्यायिक जांच कराने की मांग की है। मार्च में शामिल लोग जब राष्ट्रपति भवन की ओर से जा रहे थे तो पुलिस ने उन्हें तितर-बितर करने के लिए लाठीचार्ज किया, जिसमें कई छात्र घायल हो गए।