स्वस्थ भारत का निर्माण करें युवा-मोदी
   Date29-Sep-2019
 

 
नई दिल्ली  29 सितम्बर (वा)
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने युवाओं से स्वस्थ भारत का निर्माण करने का आह्वान करते हुए कहा है कि ई-सिगरेट का निषेध किया जाना चाहिए और इसके के संबंध में भ्रांतियां दूर करनी चाहिए।
श्री मोदी ने आकाशवाणी पर अपने मासिक कार्यक्रम 'मन की बातÓ में देशवासियों को तंबाकू और ई-सिगरेट के दुष्प्रभावों के बारे में आगाह किया। उन्होंने कहा कि तंबाकू का सेवन करने से युवाओं का शारीरिक और मानसिक विकास प्रभावित होता है और वे अपने जीवन लक्ष्य से भटक जाते हैं। उन्होंने कहा- 'तम्बाकू का नशा, सेहत के लिए, बहुत नुकसानदायक होता है और उसकी लत छोडऩा भी बहुत मुश्किल हो जाता है। तम्बाकू का सेवन करने वाले लोगों को कैंसर, मधुमेह और उच्च रक्तचाप जैसी बीमारियों का खतरा बहुत अधिक बढ़ जाता है। उन्होंने कहा कि तम्बाकू से नशा उसमें मौजूद निकोटीन के कारण होता है। किशोरावस्था में इसके सेवन से दिमाग का विकास भी प्रभावित होता है। हाल ही में भारत में ई-सिगरेट पर प्रतिबंध लगाया गया है। इसके बारे में गलत धारणा पैदा की गई है। ये भ्रांति फैलाई गई है कि ई-सिगरेट से कोई खतरा नहीं है। प्रधानमंत्री ने कहा कि ई-सिगरेट के बारे लोगों में इतनी जागरुकता नहीं है। वे इसके खतरे को लेकर भी पूरी तरह अनजान हैं। एक बार जैसे ही घर के किशोर और युवा इसके चंगुल में फंस गए, तो फिर धीरे-धीरे वे इस नशा के आदी हो जाते हैं। इस बुरी लत के शिकार हो जाते हैं। ई-सिगरेट में कई हानिकारक रसायन मिलाए जाते हैं, जिसका स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ता है।
उन्होंने कहा- युवा पीढ़ी देश का भविष्य है। ई-सिगरेट पर प्रतिबंध लगाया गया है ताकि नशे का यह नया तरीका हमारे युवा देश को तबाह न कर दे। हर परिवार के सपनों को रौंद न डाले। बच्चों की जिंदगी बर्बाद न हो जाए। ये बीमारी, ये आदत समाज में जड़ें न जमा दें। प्रधानमंत्री ने युवाओं से तम्बाकू के व्यसन को छोड़े देेने का अनुरोध किया और कहा कि ई-सिगरेट के संबंध में कोई गलतफहमी नहीं होनी चाहिए। हम सबको मिलकर एक स्वस्थ भारत का निर्माण करना चाहिए। युवाओं को फिट इंडिया अभियान से जुडऩा चाहिए।
दिवाली पर बेटियों की उपलब्धियां सामने लाएं-मोदी ने कहा- दीपावली में सौभाग्य और समृद्धि के रूप में लक्ष्मी का स्वागत है। हमारी संस्कृति में बेटियों को लक्ष्मी माना गया है। क्या इस बार समाज में बेटियों के सम्मान के कार्यक्रम रख सकते हैं। हमारे यहां कई बेटियां होंगी, जो अपने परिवार, समाज का नाम रोशन कर रही होंगी। हमारे पास कई बेटियां-बहुएं ऐसी होंगी, जो असाधारण काम कर रही होंगी। कोई बच्चों की शिक्षा तो कोई डॉक्टर, इंजीनियर बनकर समाज की सेवा कर रही होंगी। हम उनका सम्मान करें और बेटियों की उपलब्धियों को भारत की लक्ष्मी के साथ सोशल मीडिया में शेयर करें। जैसे हमने सेल्फी विद डॉटर अभियान चलाया था। उसी तरह भारत की लक्ष्मी को आगे बढ़ाएं।
त्योहारी सीजन में गरीबों के जीवन का अंधेरा हटाएं-प्रधानमंत्री ने कहा- नवरात्रि के साथ त्योहारों का सीजन नई उमंग से भर जाएगा। सभी गरबा, दुर्गापूजा, दशहरा, दिवाली, भैयादूज, छठ पूजा समेत अनगिनत त्योहार मनाएंगे। हमारे आसपास कई लोग हैं, जो इस खुशी से दूर रह जाते हैं। इसी को कहते हैं चिराग तले अंधेरा। एक तरफ कुछ घर रोशनी से जगमगाते हैं, वहीं दूसरी तरफ कुछ लोगों के घरों में अंधेरा छाया होता है। कुछ घरों में मिठाई खराब होती है तो कुछ घरो में लोग मिठाई को तरसते हैं। क्या इसे चिराग तले अंधेरा नहीं कहेंगे। त्योहारों का असली आनंद तभी है, जब यह अंधेरा हटे। जब हमारे घर में चीजें आएंगी तो हम डिलीवरी आउट के बारे में भी सोचें।