हनीट्रैप मामले में साक्ष्य जुटाए जा रहे हैं-एसएसपी
   Date21-Sep-2019

 
इंदौर 21 सितम्बर (वा) इंदौर शहर की वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) रुचिवर्धन मिश्र ने कहा कि हनीट्रैप मामले में दोनों मुख्य आरोपी महिलाओं से कड़ी-दर-कड़ी साक्ष्य जुटाए जा रहे हैं।
श्रीमती मिश्र ने आज यहां संवाददाताओं को हनीट्रैप मामले की जांच की प्रगति रिपोर्ट के संदर्भ में बताया कि प्रकरण में दोनों मुख्य आरोपी महिलाओं से कड़ी-दर-कड़ी साक्ष्य जुटाए जा रहे हैं। उन्होंने बताया प्रकरण में गिरफ्तार आरती दयाल और मोनिका यादव से पुलिस रिमांड के दौरान अपराध के संबंध गहनता से पूछताछ की जा रही है। उन्होंने बताया कि वारदात को अंजाम देने में प्रयुक्त स्थान पर दोनों आरोपियों को मौके पर ले जाकर तस्दीक कराई जा रही है। उन्होंने कहा- जब्त उपकरणों की भी जांच की जा रही है। श्रीमती मिश्र के अनुसार वारदात के अनुसंधान को फुलप्रूफ बनाये जाने के उद्देश्य के मद्देनजर सभी आवश्यक एहतियात बरते जा रहे हैं। एसएसपी से जांच की दिशा और आरोपियों से पूछताछ के बिन्दुओं पर पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि पुलिस प्रमुखता से वीडियो किसने बनाया, धमकाने के लिए किसने फोन किया और अन्य सभी पहलुओं पर जांच कर रही है। इंदौर पुलिस ने भोपाल पुलिस की मदद से दो दिनों पहले भोपाल के विभिन्न थाना क्षेत्रों से श्वेता पति स्वप्निल जैन, श्वेता पति विजय जैन और बरखा सोनी भटनागर को गिरफ्तार किया था। इंदौर की पलासिया थाना पुलिस ने यहां नगर निगम में कार्यरत एक अधिकारी की शिकायत पर पहले आरती दयाल, मोनिका यादव और ओमप्रकाश कोरी नामक आरोपियों को गिरफ्तार किया था। पुलिस गिरफ्त में आए आरोपियों पर आरोप है कि ये हनीट्रैप कर निगम अधिकारी से तीन करोड़ रुपए की राशि वसूलने के उद्देश्य से दबाव बना रहे थे। ब्लैकमेलिंग के इस मामले में गुरुवार को अदालत ने आरती, मोनिका और ओमप्रकाश को आगामी 22 सितम्बर तक पुलिस पर सौंप दिया है, जबकि शेष तीनों आरोपी को अदालत ने शुक्रवार को आगामी 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया है।