दुनिया साथ खड़ी है, जरूरत एक कदम बढ़ाने की
   Date12-Sep-2019

धर्मधारा
(गतांक से आगे)
रा नू के पास एक बेटी भी है, लेकिन मां के दिन जब गर्दिश में थे तो उसने भी किनारा कर लिया था। अब तो उसकी जिंदगी और तग्दीर की तस्वीर बदल गई है। अब रानू के लाखों चाहने वाले हो गए हैं। जबकि सप्ताह भर पूर्व उसे कोई पहचानता तक नहीं था। आज उसकी आवाज की कीमत करोड़ों में हो गई है। पूरा वालीवुड उसे हाथों पर लिए फिर रहा है। क्योंकि रानू की आवाज अभी सस्ते में बिकेगी और फिल्मी दुनिया के लोग चाहेंगे कि जितना अधिक से अधिक हो उसकी आवाज की जादू का इस्तेमाल किया जाए। हालांकि रानू की उम्र और पढ़ाई-लिखाई भी कामकाज में बांधा बन सकती है। लेकिन यतींद्र सबकुछ संभाल लेगा। क्योंकि रानू के साथ अब उसका भी भविष्य जुड़ गया है। फिल्मी दुनिया में रानू की सफलता का रास्ता हिमेश ने खोल दिया है। आइडियल सीजन-10 के विजेता सलमान अली ने भी उसके साथ एक गीत गाया है। वह भी सोशलमीडिया में खूब धमाल मचा रहा है। अब तक उसे करोड़ों लोग देख चुके हैं। टीवी शो सुपर स्टार सिंगर के जजों से मिलने के बाद उसका गाया गीत भी तेजी से वायरल हो रहा है। दुनिया भर में उसकी पहचान एक भारतीय संगीतकार के रूप में हो गई है। लोग दिन-रात उसे इंटरनेट पर खोज रहे हैं। युवाओं की वह पहली पसंद बन गई है। वह हर आम और खास के बीच चर्चा का मसला बन गयी है। उसकी आवाज में गजब की खनक और कशिश है। यूट्यूब पर जो भी व्यक्ति उसकी आवाज एक बार सुन रहा है वह रानू का मुरीद हो जा रहा है। जिसकी वजह से दुनिया भर में इंटरनेट पर उसके फालोवर बढ़ते जा रहे हैं। वह मुंबई में अपना एक घर चाहती है। लेकिन उसकी इस सफलता को देखते हुए पश्चिम बंगाल प्रशासन ने रानाघाट में एक घर उपलब्ध कराया है। उसकी कामयाबी का राज इसी से पता चल सकता है कि वालीबुड के साथ दक्षिण भारतीय और बंग्ला फिल्म उद्योग में उसकी मंाग बढऩे लगी है। रानू मंडल की इस सफलता में भारतीय रेल का भी बड़ा हाथ हैं। अगर उसे रेल की शरण न मिली होती तो शायद यह कामयाबी नहीं मिल पाती। उसकी सफलता की दूसरी सबसे बड़ी वजह सोशल मीडिया है। सोशलमीडिया आज इस स्थिति में है कि वह चाहे जिसे आम से खास बना दे। सोनू की सफलता में सबसे बड़ा हाथ सोशलमीडिया का है। आज की युवापीढ़ी इसकी ताकत को पहचानती है। सोशलमीडिया न होती तो शायद रानू रानाघाट स्टेशन पर ही दो वक्त की रोटी के लिए संघर्ष करती दिखती। (समाप्त)