नर्मदा सहित सभी नदियां उफान पर
   Date11-Sep-2019

भोपाल द्य 10 सितम्बर (वा)
मप्र में तीन दिन से लगातार जारी बारिश के बीच नदी-नालों में उफान के चलते अब तक आधा दर्जन से भी ज्यादा लोगों की मौत की सूचना है। वहीं मालवा-निमाड़़ के लगभग सभी जिलों में पिछली बार की वर्षा का रिकार्ड टूट चुका है। नर्मदा सहित सभी नदियां उफान पर हैं। इस वर्षाकाल में राजगढ़़-शाजापुर में ५६ तो धार में ४२ और अलिराजपुर में रिकार्ड ५० इंच बारिश हो चुकी है।
स्थानीय मौसम केंद्र ने आज भी राज्य के 8 जिलों में कहीं-कहीं घनघोर बारिश होने, अन्य 8 जिलों में अति भारी वर्षा होने तथा अन्य 16 जिलों में भारी वर्षा होने की चेतावनी दी है। राजधानी भोपाल में पिछले करीब तीन दिन से बारिश का प्रकोप कायम
है। यहां आसमान में पूरी तरह बादलों का डेरा है और रुक-रुककर बारिश का क्रम लगातार जारी है। बाढ़ से बहुत ज्यादा प्रभावित विदिशा जिले में लगातार बारिश के चलते विभिन्न स्थानों पर कुल 15 बस्तियां जलमग्न हैं, जहां 5 से 6 फीट पानी भरा है। यहां बेतवा नदी के पुल से 15 से 20 फीट ऊपर बह रही है। रायसेन जिले का भी विभिन्न स्थानों पर नदियों और नालों के उफान पर होने से विदिशा और भोपाल से सड़क संपर्क टूटा हुआ है। यहां कई स्थानों पर नदियां पुल से करीब 10 फीट ऊपर तक बह रही हैं।
जबलपुर जिले के ग्वारीघाट पर कल शाम नर्मदा में स्नान करते समय साहिल पटेल (19) नाम का युवक डूब गया। उसकी देर रात तक तलाश जारी होने के बाद भी उसका कुछ पता नहीं चल सका था। वहीं सीहोर जिले में एक बरसाती नाले में कार के गिर जाने से उसमें सवार चार लोगों की मौत हो गई। इसी प्रकार सिवनी जिले में दो लोग बैनगंगा नदी में कार सहित बह गए। उनके शव मिल गए हैं। भारी बारिश के कारण कल राजधानी भोपाल सहित सीहोर, रायसेन एवं विदिशा जिलों में स्कूल एवं अन्य शैक्षणिक संस्थानों में जिला प्रशासन ने अवकाश घोषित कर दिया था।
हरदा में आफत की बारिश - हरदा जिले में लगातार बारिश से जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है। निरंतर बारिश से हरदा जिला मुख्यालय सहित जिले की तीनों तहसील हरदा, टिमरनी और खिरकिया में बारिश से उत्पन्न हालात अभी सामान्य नहीं हुए हैं।