फिटनेस को जीवनशैली का हिस्सा बनाएं लोग - मोदी
   Date29-Aug-2019
 
नई दिल्ली 29 अगस्त (वा) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 'फिटनेसÓ को स्वस्थ, सफल और समृद्ध जीवन का मंत्र बताते हुए आज लोगों से कहा कि वे इसे अपनी जीवनशैली का हिस्सा बनाएं।
श्री मोदी ने हॉकी के जादुगर कहे जाने वाले मेजर ध्यानचंद की जयंती के उपलक्ष्य में गुरुवार को यहां राष्ट्रीय खेल दिवस के मौके पर इंदिरा गांधी स्टेडियम में 'फिट इंडिया मूवमेंटÓ की शुरुआत की। मेजर ध्यानचंद को श्रद्धांजलि देते हुए उन्होंने कहा- यह दिन हमारे उन युवा खिलाडिय़ों को बधाई देने का भी है, जो निरंतर दुनिया के मंच पर तिरंगे की शान को नई बुलंदी दे रहे हैं। बैडमिंटन हो, टेनिस हो, एथलेटिक्स हो, बॉक्सिंग हो, कुश्ती हो या फिर दूसरे खेल, हमारे खिलाड़ी हमारी उम्मीदों और आकांक्षाओं को नए पंख लगा रहे हैं। उन्होंने कहा कि खिलाडिय़ों के पदक उनके तप और तपस्या का परिणाम तो हैं ही, ये नए भारत के नए जोश और नए आत्मविश्वास का भी पैमाना है। उन्होंने कहा कि इस अभियान का उद्देश्य लोगों में स्वास्थ्य और फिटनेस के प्रति अलख जगाना है, क्योंकि लोग स्वस्थ होंगे तो देश भी मजबूती के साथ लक्ष्यों को हासिल करने की दिशा में बढ़ेगा। अभियान की सफलता के लिए लोगों का आह्वान करते हुए उन्होंने कहा कि भले ही इसे सरकार ने शुरू किया है, लेकिन इसका नेतृत्व लोगों को ही करना है। उन्होंने कहा- देश की जनता ही इस कैम्पेन को आगे बढ़ाएगी और सफलता की बुलंदी पर पहुंचाएगी। मैं अपने निजी अनुभवों से कह सकता हूं कि इसमें निवेश जीरो है, लेकिन रिटर्न असीमित हैं। उन्होंने आह्वान किया कि लोग फिटनेस को अपनी जीवनशैली का हिस्सा बनाएं। उन्होंने कहा कि खेल का सीधा नाता फिटनेस से है, लेकिन आज जिस फिट इंडिया मूवमेंट की शुरुआत हुई है, उसका विस्तार खेल से भी आगे बढ़कर है। उन्होंने कहा कि फिटनेस एक शब्द नहीं है, बल्कि स्वस्थ और समृद्ध जीवन की एक जरूरी शर्त है। सफलता और फिटनेस का रिश्ता भी एक-दूसरे से जुड़ा हुआ है। कोई भी क्षेत्र हो, अपने आइकन को देखिए, उनकी सफलता की कहानी देखें, चाहे वो खेल में हों, फिल्मों में हों, बिजनेस में हों, इनमें से अधिकतर फिट हैं। ये सिर्फ संयोग मात्र नहीं है। इन सब सफल लोगों में एक समानता है और यह फिटनेस पर उनका ध्यान है। कोई भी क्षेत्र हो, आपको इसमें दक्षता और निपुणता लानी है तो मानसिक और शारीरिक फिटनेस जरूरी है। चाहे बोर्डरूम हो या फिर बॉलीवुड, जो फिट है, वो आसमान छूता है। बॉडी फिट है तो माइंड हिट है।
- श्री मोदी ने कहा कि देश में जीवनशैली से जुड़ी बीमारियां बढ़ रही हैं और युवा भी इसकी चपेट में आ रहे हैं। मधुमेह और उच्च रक्तचाप के मामले बढ़ रहे हैं और यहां तक कि बच्चों में भी ये बीमारियां देखने को मिल रही हैं।
-उन्होंने कहा कि प्रौद्योगिकी ने लोगों की शारीरिक क्षमता कम कर दी है और फिटनेस की आदत छीन ली है। लोग अपनी परंपरागत कार्यप्रणालियों और जीवनशैली से अनभिज्ञ हो गए हैं।
-उन्होंने कहा कि समय के साथ समाज ने फिटनेस को कम महत्व देकर खुद से दूर कर दिया है। पहले एक व्यक्ति कई किलोमीटर पैदल अथवा साइकिल पर चलता था, आज मोबाइल एप हमें बताता है कि हम कितने कदम चले हैं।
-श्री मोदी ने कहा कि जब व्यक्ति फिटनेस की ओर ध्यान देता है तो उसे अपने शरीर को समझने का मौका मिलता है।
-उन्होंने कहा कि मैंने ऐसे कई लोगों को देखा है, जिन्होंने ऐसे ही अपनी बॉडी की शक्ति को जाना है, पहचाना है। इससे उनका आत्मविश्वास भी बढ़ा है, जिससे एक बेहतर व्यक्तित्व के निर्माण में उन्हें मदद मिली है।
- प्रधानमंत्री ने कहा- स्वस्थ व्यक्ति, स्वस्थ परिवार और स्वस्थ समाज ही नए भारत को श्रेष्ठ बनाने का रास्ता है। राष्ट्रीय खेल दिवस पर हम फिट इंडिया आंदोलन को मजबूत बनाने की प्रतिज्ञा करते हैं।