सोयाबीन की फसल को धूप का इंतजार लेवाली कमजोर होने से सोया तेल नरम
   Date19-Aug-2019

इन्दौर   व्यापार प्रतिनिधि
खाद्य तेलों में ऊंचे भाव पर लेवाली का समर्थन कमजोर है। विदेशी बाजार भी तेजी बाद अब अटकने लगे हैं। सोया तेल में रिसेल भाव घटाकर बेचू है परंतु लेवाल नहीं है। मलेशिया से भारी मात्रा में पाम तेल आयात में हो रही वृद्धि की जांच शुरू हो गई है वहीं यहां मिलावटी तेल, घी आदि की जांच होने व छापाकारी होने से भी लेवाल सतकर्ता बरत रहे हैं। दूसरी तरफ म.प्र., महाराष्ट्र, गुजरात, राजस्थान आदि में बाढ़, अतिवृष्टि से सोयाबीन व मूंगफली की फसल को हानि या नुकसान हुआ है, लेकिन इसका वास्तविक पता तो मौसम खुलने के बाद ही होगा। सोयाबीन की मप्र में फसल को अब धूप की सख्त आवश्यकता है। खेतों में पानी भरा हुआ है। मौसम बादलों वाला होने से सोयाबीन की बढ़त रूक रही है तथा इल्ली फैलने का भी डर है। परंतु रिसेल बिकवाली से आज तेलों में नरमी रही। प्लांट वाले सोया तेल 755 रु. बता रहे थे। मलेशिया पाम तेल दो माह का 540 डालर, फारवर्ड में 560 डालर रहा। के.एल.सी. 36 रिंगिट माइनस रही। शिकागो सोया वायदा भी 15 सेंट माइनस रहा। जबकि यहां वायदा में सोया तेल रनिंग में अगस्त का 756 रु. 55 पैसे, सितंबर का 751 रु.चल रहा था। जबकि सीड अगस्त की 3800, सितंबर की 3669 रु. तथा सरसो सितंबर की 3875, अक्टूबर की 3937 रु. रही। जिससे हाजर में नरमी का रूख रहा। कामकाज के दौरान सींगदाना तेल इंदौर 1100, मुंबई तेल 1075, राजकोट तैलिया 1700, गुजरात लूज 1100, सोया रिफाइंड इंदौर 752 से 755, सोया साल्वेंट 720 से 725, गुजरात कॉटन वाश्ड 758, मुंबई कॉटन तेल 812, मुंबई सोया रिफाइंड 755, मुंबई सोया डीगम 710, रेपसीड तेल 810, सनफ्लावर तेल 810, सनफ्लावर रिफाइंड 840, मुंबई पाम तेल 614, इंदौर पाम तेल 657 से 658 रु.।